Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
एस्ट्रोजन रिसेप्टर पॉजिटिव कैंसर वाली लगभग 25% महिलाओं में, 20 साल के भीतर ट्यूमर के 42-55% लौटने की संभावना होती है।

स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति का जल्द पता लगाया जा सकेगा

लेखक सोनम  •  
शेयर
स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति का जल्द पता लगाया जा सकेगा
Read in English

स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि स्तन कैंसर कोशिकाओं से प्राप्त आणविक जानकारी का उपयोग रोगियों में कैंसर की पुनरावृत्ति का पूर्वानुमान लगाने के लिए किया जा सकता है। यह अध्ययन 13 मार्च 2019 को नेचर नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ था।

कैंसर सबसे घातक बीमारियों में से एक है। कैंसर से जूझने वाले या लड़ने वाले लोग हमेशा इस डर में जीते हैं कि यह बीमारी उन्हें दुबारा न हो जाए। स्तन कैंसर के 11 प्रकार हैं और उनमें से सभी का वापस आने का खतरा होता है।

वैज्ञानिकों ने अब एक उपकरण विकसित किया है जो उस समय का सटीक पूर्वानुमान लगा सकता है जब कैंसर संभावित रूप से स्तन कैंसर से ठीक हुए रोगियों में वापस आ सकता है।

इस अध्ययन के अनुसार, आणविक जानकारी का उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए किया जा सकता है कि रोगियों में उनके निदान के वर्षों बाद भी यह बीमारी उन्हें दुबारा हो सकती है या नहीं।

इस अध्ययन के लिए, वैज्ञानिकों ने स्तन कैंसर से पीड़ित लगभग 3000 महिलाओं के चिकित्सा इतिहास का अध्ययन किया। उन्होंने यह जानने के लिए अध्ययन किया कि उनके पहले सफल उपचार के बाद स्तन कैंसर के विशेष प्रकार की कब और कहाँ फैलने की संभावना थी।

वैज्ञानिकों ने एक कंप्यूटर मॉडल विकसित किया, जो ट्यूमर के उन उपसमूहों की पहचान करता था, जिनमें पुनरावृत्ति का उच्च जोखिम था और साथ ही जिनमें पुनरावृत्ति की संभावना कम थी। यह मॉडल एक मरीज की बीमारी का कालक्रम प्रदान करता है और यह एक जीनोम संचालित वर्गीकरण योजना पर आधारित है।

अध्ययन के दौरान, वैज्ञानिकों ने सबसे आक्रमणशील कैंसर में से एक की पहचान की जिसे "ट्रिपल नेगेटिव" कैंसर कहा जाता है। इस कैंसर का इलाज बहुत कठिन होता है।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि एस्ट्रोजन रिसेप्टर पॉजिटिव कैंसर वाली लगभग 25% महिलाओं में, 20 साल के भीतर ट्यूमर के लौटने की संभावना 42-55% होती है। इसमें कैंसर का वापिस आने का खतरा अधिक होता है। शोधकर्ता यह समझने और जानने में सक्षम रहे कि शरीर में स्तन कैंसर के फैलने की संभावना कब और कहाँ थी।

जो रोगी कैंसर से पीड़ित थे उनमें कैंसर की पुनरावृत्ति का पूर्वानुमान लगाने के लिए डॉक्टरों और चिकित्सकों द्वारा कुछ कारक उपयोग किए जाते हैं। यह वर्तमान कारक हैं निदान के समय ट्यूमर का आकार और वर्ग, लसीका पर्व का स्तर और रोगी की उम्र।

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इन शोध उपकरणों की मदद से डॉक्टर स्तन कैंसर के इलाज के लिए उपचार की सलाह का परीक्षण और मार्गदर्शन कर सकते हैं।

ऑस्कर रुएडा, अध्ययन के प्रमुख लेखकों में से एक ने कहा, "हमने दिखाया है कि एक महिला के स्तन कैंसर की आणविक प्रकृति यह निर्धारित करती है कि उनकी बीमारी कैसे आगे बढ़ सकती है, न केवल पहले पांच वर्षों के लिए, बल्कि बाद में भी अगर वह वापिस आए।"

अध्ययन में पता चला है कि वैज्ञानिक रोगी के नैदानिक अनुवर्ती के दौरान विभिन्न समय पर बीमारी का पूर्वानुमान लगा सकते हैं। वैज्ञानिकों ने यह भी पाया कि उपसमूहों ने समय और प्रसार के स्थलों के संदर्भ में पुनरावृत्ति के विभिन्न पैटर्न प्रदर्शित किए।

वैज्ञानिक इन रोगियों के उपसमूहों के परिणामों में सुधार करने के लिए और अधिक उन्नत शोध करने की योजना बना रहे हैं, जो नए उपचारों की मदद से पुनरावृत्ति के उच्च जोखिम में हैं। वे इस अध्ययन के लिए नैदानिक परीक्षण करने की योजना भी बना रहे हैं।

यह शोध स्तन कैंसर फैलने के दर और मार्गों का अध्ययन करने के लिए पहला अध्ययन है।

ताज़ा खबर

TabletWise.com