Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
चीन द्वारा पूर्व में चाँद पर भेजा गया Chang’e-4 अंतरिक्ष यान पृष्ठभूमि में सूरज के साथ।

चीनी अंतरिक्ष यान चंद्रमा के गहरे पक्ष से नमूने एकत्र करेगा

लेखक   •  
शेयर
चीनी अंतरिक्ष यान चंद्रमा के गहरे पक्ष से नमूने एकत्र करेगा
Read in English

चीन इस वर्ष के अंत तक चांद के गहरे पक्ष से नमूने एकत्र करने के लिए Chang’e -5 नामक एक अंतरिक्ष यान लॉन्च करने जा रहा है।

वर्ष 2019 की शुरुआत में, चीन ने अपने Chang’e-4 नामक अंतरिक्ष यान को चंद्रमा के गहरे पक्ष पर उतारा था। चीन अब चंद्रमा से नमूने एकत्र करने के लिए इस वर्ष के अंत तक Chang’e-5 नामक एक और अंतरिक्ष यान को चन्द्रमा पर भेजने के लिए तैयार है।

Chang’e-5 नामक यह अंतरिक्ष यान Chang’e-4 अंतरिक्ष यान का एक विस्तारित रूप है। यह अंतरिक्ष यान आगे के अध्ययन करने और चंद्रमा को समझने में मदद करेगा।

एक समेलन के दौरान, चीनी राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (CNSA) के उप प्रमुख वू यानहुआ ने कहा कि Chang’e-5 मिशन को इस साल के अंत तक लॉन्च किया जाएगा। आगे 2020 में मंगल ग्रह पर भेजे जाने के लिए एक और अंतरिक्ष यान जारी किया जाएगा।

यानहुआ ने यह भी कहा कि Chang’e- 5 अंतरिक्ष यान का उद्देश्य एक ऐसी नीव स्थापित करने का है जिसके आधार पर अन्य अंतरिक्ष यान चांद के दक्षिणी ध्रुव पर भेजे जा सकें और चंद्रमा के सबसे दूर वाले पक्ष से नमूने वापस ला सकें।

यानहुआ के अनुसार भविष्य के मिशनों द्वारा पुरे किए गए परीक्षण चंद्रमा की सतह पर विस्तार करने के लिए नींव स्थापित कर सकते हैं। यह मिशन 3 डी प्रिंटिंग और भवन-निर्माण में चंद्रमा की मिट्टी के उपयोग पर परीक्षण भी करेंगे।

चीन द्वारा पूर्व में जारी किया गया Chang’e-4 अंतरिक्ष यान 3 जनवरी 2019 को संयत रूप से चंद्रमा पर उतरा था। इस अंतरिक्ष यान ने चंद्रमा के दूर के हिस्से की पहली सबसे करीबी तस्वीर प्रदान की।

चांद पर जाने के लिए Chang’e- 4 को तीन दिन लगे। इस मिशन को चंद्रमा के अंधेरे रहस्यमय भागों, इसकी संरचना और इसकी चट्टानों की संरचना को समझने में मदद करने के लिए निष्पादित किया गया था।

Chang’e- 4 के मिशन में चंद्रमा की भूमि का निरीक्षण करना, खगोल विज्ञान से संबंधित अवलोकन करना, तटस्थ परमाणुओं और न्यूट्रॉन विकिरण को मापना और खनिजों की संरचना का अध्ययन करना शामिल था।

चंद्रमा उसी गति से घूमता है जिस गति से यह हमारी पृथ्वी की परिक्रमा करता है। इसके कारण पृथ्वी हमेशा चंद्रमा के एक ही पक्ष का सामना करती है और चंद्रमा का दूर का हिस्सा हमारे लिए अदृश्य रहता है।

चंद्रमा के दूर के पक्ष की ओर होना एक चुनौती है क्योंकि इसका पृथ्वी से कोई सीधा संपर्क नहीं है, लेकिन चीन ने मई 2018 में चंद्रमा के चारों ओर के ग्रहपथ में रिले उपग्रह पहुँचाकर संचार में इस बाधा को पार कर लिया है।

चीन अगले साल अपने स्वयं के मानवयुक्त अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण को शुरू करने की योजना बना रहा है।

चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (CNSP) ने अंतरिक्ष अन्वेषण को बहुत महत्वपूर्ण विषय बना दिया है। चीन संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस, अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अग्रणी राज्यों के साथ बराबरी करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

चीन का उद्देश्य अब वर्ष 2030 के अंत तक अंतरिक्ष विज्ञान में सत्ता हासिल करना है।

ताज़ा खबर

TabletWise.com
Home
Saved

साइन अप