Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
गठिया जोड़ों की एक गंभीर सूजन होती है जिसके कारण जोड़ों में दर्द होता है।

यंत्र शिक्षण गठिया से ग्रसित बच्चों के इलाज में सुधार कर सकता है

लेखक   •  
शेयर
यंत्र शिक्षण गठिया से ग्रसित बच्चों के इलाज में सुधार कर सकता है
Read in English

26 फरवरी, 2019 को टोरंटो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा PLOS (पीएलओएस) मेडिसिन पत्रिका में एक अध्ययन प्रकाशित किया गया है।

इस शोध में एक अभिकलनात्मक दृष्टिकोण का वर्णन किया गया है जिसमें यह बताया गया है कि गठिया के रोगियों में बीमारी की गंभीरता का सटीक अनुमान लगाया जा सकता है। इसकी मदद से चिकित्स्क इस बीमारी का बेहतर उपचार दे सकेंगे।

यह शोध यंत्र शिक्षण पर आधारित है जो कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता का एक रूप है। यह रोग की जानकारी के समूह की मदद से निरंतर प्रतिमान की पहचान करने के लिए तरीके बनाता है। इस अध्ययन के दौरान, प्रतिभागियों के शरीर में दर्दनाक जोड़ों के प्रतिमान के आधार पर सात अलग-अलग समूहों में रोगियों को वर्गीकृत किया गया।

इसके अलावा, इस शोध ने सटीक पूर्वानुमान किया कि कौन से बच्चे तेजी से उत्सर्जन में जाएंगे और किन बच्चों में इस बिमारी के अधिक गंभीर रूप विकसित होंगे।

इस तरह के कलन विधि का ज्ञान होने के बाद, रोगियों को सिर्फ रोग के मामूली रूप का ही अनुभव करना होगा। इससे अंततः रोगियों को अनावश्यक उपचार और इसकी दवाओं के दुष्प्रभावों से बचाया जा सकता है। यह यंत्र शिक्षण उपकरण क्वैड मॉरिस, डॉ राई येंग और हाल ही में स्नातक साइमन एंग द्वारा विकसित किया गया है।

टोरंटो विश्वविद्यालय में कंप्यूटर विज्ञान के प्रोफेसर क्वैड मॉरिस ने कहा, "कुछ बच्चों में उपचार का अंतिम चरण बहुत प्रभावी होता है, लेकिन साथ ही यह बहुत महंगा भी होता है, और इसके दीर्घकालिक प्रभाव भी अभी स्पष्ट नहीं हैं।"

प्रो मॉरिस ने यह भी कहा, "जब आप प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को बाधित कर रहे हैं, तो इस प्रकार का उपचार संभावित दुष्प्रभावों के साथ जुड़ा हो सकता है, जिसमें संक्रमण और अन्य का खतरा बढ़ सकता है।"

डॉ राई येंग, टोरंटो विश्वविद्यालय में पीडियाट्रिक्स, इम्यूनोलॉजी और मेडिकल साइंस के प्रोफेसर ने कहा, "बच्चों के इस समूह को जल्दी पहचानने से हमें सही उपचारों को जल्दी लक्षित करने में मदद मिलेगी और चल रहे सक्रिय रोग से अनावश्यक दर्द और विकलांगता को रोका जा सकेगा।"

गठिया जोड़ों की एक गंभीर सूजन होती है जिसके कारण जोड़ों में दर्द होता है। यह न केवल बूढ़े लोगों को प्रभावित करता है बल्कि बच्चे भी इस बीमारी से प्रभावित हो सकते हैं। यह बच्चों में आजीवन गंभीर दर्द और विकलांगता भी पैदा कर सकता है।

शोधकर्ता अभी भी इस बिमारी के शुरुआती कारणों से अनजान हैं लेकिन यह बीमारी तब होती है जब प्रतिरक्षा प्रणाली जोड़ों के अस्तर पर हमला करने लगती है जिससे जोड़ों में सूजन और दर्द होने लगता है। इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है और इस बिमारी को रोकने में महंगी दवाओं का इस्तेमाल होता है।

शोध के दौरान, उन गठिया पीड़ित बच्चों की जांच की गई, जिनका अभी तक दवाओं से इलाज नहीं किया गया था। इस दौरान 640 बच्चों के नैदानिक जानकारी का विश्लेषण किया गया था। सभी प्रतिभागियों को शरीर में दर्दनाक जोड़ों के दस्तावेज सहित उचित शारीरिक विश्लेषण प्राप्त हुआ था।

इस एकत्रित की गयी जानकारी ने श्रोणि क्षेत्र, पैर की उंगलियों, घुटनों, हाथों की उंगलियों, कलाई और टखनों में जोड़ों की गतिविधि के सात प्रमुख प्रतिमानों को उजागर किया। कई प्रतिभागियों में इस विश्लेषण में सक्रिय जोड़ पाए गए।

इस अध्ययन से यह स्पष्ट होता है कि फ़िलहाल हमारे शरीर के जोड़ों के बेहतर विवरण की आवश्यकता है जिससे हम बिमारी के पाठ्यक्रम और इसकी गंभीरता का अनुमान लगा सकेंगे।

इस अध्ययन के शोधकर्ताओं में से एक ने यह कहा था कि शुरू में इस बिमारी के सात प्रतिमानों का पता लगाने के लिए यंत्र शिक्षण का इस्तेमाल किया गया था। तब यह पाया गया था कि बहुत से मरीज इस शोध के तहत खोजे गए किसी भी तरह के प्रतिमानों में नहीं आते हैं और उनमें इस बीमारी के दुष्ट संस्करण भी पाए गए हैं।

शोधकर्ताओं द्वारा अब यह कहा गया है कि हम दिए गए उपचारों के प्रति अपनी प्रतिक्रिया खोजने के लिए बच्चों को अलग-अलग प्रतिमानों में बांटने के बाद इस बीमारी की बेहतर जांच कर सकते हैं।

ताज़ा खबर

TabletWise.com
Home
Saved

साइन अप