Clicky

Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
एलएमसी आकाशगंगा के भीतर चमकती गैस और गहरी धूल का एक भंवर

मिल्की वे आकाशगंगा एक अन्य आकाशगंगा के साथ मुठभेड़

लेखक   •  
शेयर
मिल्की वे आकाशगंगा एक अन्य आकाशगंगा के साथ मुठभेड़
Read in English

शोधकर्ताओं द्वारा यह अनुमान लगाया गया है कि मिल्की वे आकाशगंगा अपनी सबसे करीबी ब्रह्मांडीय आकाशगंगा से टकराएगी जिसे लार्ज मैगेलैनिक क्लाउड (LMC) के नाम से जाना जाता है। यह 2 अरब वर्षों में होगा।

एलएमसी उन आकाशगंगाओं में से एक है जो मिल्की वे की परिक्रमा करते हैं। यह तारों और धूल का एक चक्कर है, जिसमें मिल्की वे की तुलना में 5 प्रतिशत नक्षत्रीय द्रव्यमान है। डरहम विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि एलएमसी दो अरब वर्षों की अवधि में मिल्की वे आकाशगंगा से टकराएगी।

माना जाता है कि यह मुठभेड़ एंड्रोमेडा और मिल्की वे की टक्कर से पहले होगी, जिसके होने की संभावना आज से लगभग 3.75 अरब वर्षों बाद की है। इन ब्रह्मांडीय घटनाओं के पीछे गुरुत्वाकर्षण खिंचाव मुख्य कारण है।

इस वजह से आकाशगंगा के तारों और ग्रहों के बीच भी टकराव होगा। हालांकि एलएमसी बड़ा है, लेकिन इसमें हमारी आकाशगंगा को नष्ट करने के लिए पर्याप्त द्रव्यमान नहीं है। लेकिन इसका वज़न करीब 250 मिलियन सूर्यों जितना है, जिस वजह से इसका सौर मंडल पर बड़ा असर पड़ेगा।

इसके परिणाम स्वरुप मिल्की वे में कम्पन हो सकती है और सौर मंडल बाहरी अंतरिक्ष में निकल सकता है।

इस दुर्घटना के कारण ब्लैक होल बड़े गैस के बादलों और एलएमसी से सितारों को निगल सकता है और अपने वर्तमान द्रव्यमान की तुलना में दस गुना तक बढ़ सकता है।

ब्लैक होल तब सक्रिय हो जाएगा और चमकदार उच्च ऊर्जा की विकिरणों को छोड़ेगा जो पृथ्वी से ब्रह्मांडीय आतिशबाजी का शानदार दृश्य बनेगा।

टक्कर के कारण मिल्की वे के कोर में गड़बड़ी होने की संभावना भी बताई जा रही है। इस टक्कर के कारण कई सितारे भी अंतरिक्ष या प्रभामंडल में निकल सकते हैं।

ताज़ा खबर

TabletWise.com