Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
सिरोसिस, यकृत का एक रोग, तब होता है जब जिगर में कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं और हमारा शरीर उनकी मरम्मत नहीं कर पाता।

जिगर की बीमारियों का इलाज करने के लिए एक नई दवा चिकित्सा

लेखक कनिका  •  
शेयर
जिगर की बीमारियों का इलाज करने के लिए एक नई दवा चिकित्सा
Read in English

मेयो क्लिनिक के शोधकर्ताओं ने एक नई दवा चिकित्सा की खोज की है जो सिरोसिस से संबंधित एक घातक स्वास्थ्य स्थिति और अन्य पुरानी जिगर की बीमारियों का इलाज कर सकती है। यह अध्ययन 11 मार्च, 2019 को गैस्ट्रोएंटरोलॉजी नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ था।

सिरोसिस तीव्र यकृत रोगों में से एक है। यह तब होता है जब जिगर में कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं और हमारा शरीर उनकी मरम्मत नहीं कर पाता। सिरोसिस हमारे रक्त प्रवाह को धीमा कर देता है, जिससे यकृत शिरा पर दबाब डलता है। इसके परिणामस्वरूप पोर्टल हायपरटेंशन होता है जिसे उच्च रक्तचाप के नाम से भी जाना जाता है।

वर्तमान में यकृत रोगों जैसे हेपेटाइटिस सी और ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस के इलाज के लिए चिकित्सा और उपचार उपलब्ध हैं। हालांकि, जब पोर्टल हायपरटेंशन के इलाज की बात आती है तो इसके लिए बाजार में सीमित विकल्प ही उपलब्ध हैं।

इस अध्ययन में, उच्च रक्तचाप को प्रभावी ढंग से कम करने के लिए सिवलेस्टैट दवा के उपयोग की जांच करने के लिए एक चूहे के मॉडल पर शोध किया गया था।

इस दवा का उपयोग करके, वैज्ञानिक न्यूट्रोफिल (भड़काऊ कोशिकाएं) की रोकथाम करके उच्च रक्तचाप को कम करने में सक्षम रहे। न्यूट्रोफिल वो कोशिकाएं होती हैं जो फाइब्रिन के निर्माण के लिए जिम्मेदार होती हैं, फाइब्रिन छोटी रक्त वाहिकाओं संबंधी रक्त के थक्के होते हैं, जिनके कारण उच्च रक्तचाप होता है।

इस प्रकार, यह दवा उच्च रक्त चाप को कम करने में प्रभावी साबित हुई है। इस दवा से उन रोगियों के लक्षणों और समग्र परिणामों में भी सुधार हुआ है जो जिगर की बीमारियों से पीड़ित थे।

डॉ. विजय शाह, अध्ययन के लेखक, और मेयो क्लीनिक के एक जठरांत्ररोगविज्ञानी ने कहा "यह हमारे निष्कर्षों और मानव रोग के लिए उनकी प्रयोज्यता की एक रोमांचक पुष्टि थी। सिवलेस्टैट का उपयोग तीव्र फेफड़े की चोट और ब्रोंकोपुलमोनरी डिस्प्लेसिया से पीड़ित लोगों में सुरक्षित रूप से किया जाता है। ”

इसके अतिरिक्त उन्होंने कहा, "इससे पता चलता है कि सिवलेस्टैट और इसी तरह की दवाएं पुराने यकृत रोग के रोगियों में पोर्टल उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए एक संभावित साधन का निर्माण करती हैं।"

मोइरा हिल्चर, इस अध्ययन के पहले लेखक, ने कहा, "न्यूट्रोफिल को पहले पोर्टल उच्च रक्तचाप के महत्वपूर्ण चालकों के रूप में पहचाना नहीं गया था। यह अध्ययन नई दवाओं को विकसित करने और मौजूदा यौगिकों के पुनरुत्थान का मार्ग प्रशस्त करता है, जो रोग-संबंधी ताकतों द्वारा संचालित यकृत शोथ को लक्षित करते हैं।”

उन्होनें आगे कहा, "शराब और मोटापे के कारण उन्नत यकृत रोग की बढ़ती व्यापकता को देखते हुए, यह स्पष्ट रूप से एक अधूरी जरुरत है।"

शोधकर्ताओं के अनुसार, अब तक सिवेलेस्टैट तीव्र फेफड़ों की चोटों के उपचार के लिए मनुष्यों पर प्रभावी साबित हुआ है। शोधकर्ताओं ने अब दावा किया है कि यह रक्तचाप को कम करने में भी मदद कर सकती है और उन रोगियों का इलाज करने में सक्षम हो सकती है जो पुराने यकृत रोगों से पीड़ित हैं।

बहरहाल, इस दवा चिकित्सा ने आगे की जांच के लिए नए दरवाजे खोले हैं, विशेष रूप से जीवन-संबंधी यकृत रोगों को लक्षित करते हुए।

ताज़ा खबर

TabletWise.com