Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
रिपोर्टों के अनुसार, दुनिया भर में 2 बिलियन ऐसे लोग हैं जो अव्यक्त टीबी से पीड़ित हैं, जिनमें से 10 प्रतिशत मामले सक्रिय टीबी के होते हैं।

नए उपकरण टीबी की पहचान करने में मदद कर सकते हैं

लेखक   •  
शेयर
नए उपकरण टीबी की पहचान करने में मदद कर सकते हैं
Read in English

मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं की एक टीम ने कहा कि विभिन्न बायोमेकर की पहचान करने से रोगियों को अधिक सटीक निदान प्रदान किया जा सकता है।

अध्ययन के अनुसार, कुछ नए नैदानिक ​​उपकरण उन रोगियों की पहचान करने में मदद कर सकते हैं जिनमें टीबी रोग के फिर से सक्रिय होने का उच्च खतरा है। ऐसे नए उपकरणों में यंत्र अधिगम और सटीक चिकित्सा शामिल है।

यह शोध 4 फरवरी 2019 को इंटीग्रेटिव बायोलॉजी में प्रकाशित किया गया था। यह अध्ययन रोचेस्टर, मिनेसोटा में मेयो क्लिनिक के सहयोग से किया गया था। इस अध्ययन में, उन्होंने 50 विषयों को सूचीबद्ध किया है जिसमें सकारात्मक एलटीबीआई (LTBI) स्थिति वाले लोग भी शामिल थे।

रिपोर्टों के अनुसार, दुनिया भर में 2 बिलियन (200 करोड़) ऐसे लोग हैं जो अव्यक्त टीबी से पीड़ित हैं। जिनमें से 10 प्रतिशत मामले सक्रिय टीबी के होते हैं। हालांकि, अव्यक्त टीबी से इस रोग का फिर से सक्रिय होना कभी भी हो सकता है और शोधकर्ता अभी भी इसका कारण खोजने की कोशिश कर रहे हैं।

वर्तमान में, अव्यक्त टीबी संक्रमण (LTBI) का परीक्षण दो विधियों के माध्यम से किया जाता है, एक रक्त परीक्षण और दूसरा त्वचा-खरोंच परीक्षण है। ये परीक्षण एक बायोमार्कर को पहचान सकते हैं, लेकिन ये स्मृति प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया, टीके द्वारा शुरू की गई प्रतिक्रिया और नॉन-ट्यूबरकुलस मायकोबैक्टीरिया अनावरण के बीच अंतर करने में असमर्थ होते हैं।

इन परीक्षणों के माध्यम से अव्यक्त टीबी संक्रमण (LTBI) को सही पहचानने की 5 प्रतिशत से भी कम संभावना होती है। टीबी को एक जीवाणुनाशक उपचार का उपयोग करके ठीक किया जा सकता है, लेकिन इस पद्धति का उपयोग करके जीवाणुनाशक प्रतिरोध के कुछ संभावित दुष्प्रभावों होने की संभावना होती है।

रयान बेली, अध्ययन के सह-लेखक और रसायन विज्ञान के प्रोफेसर, कहा, "एक बहु-सरणी परीक्षण रोगी के संक्रमण और संभावित परिणाम की एक अधिक विस्तृत, रोग-विशिष्ट झलक प्रदान कर सकता है, एक सटीक दवा दृष्टिकोण का उपयोग करके पहले के अस्पष्ट निदान और रोग के फिर से सक्रिय होने के जोखिम की संभावना का पता चलता है।"

इसके अलावा, उन्होंने कहा, "यह उच्च-स्तरीय बहुसंकेतन, उच्च-परख प्रदर्शन लागत प्रभावी और मापनीय हो सकता है। उन्होंने दावा किया कि इन उपकरणों से स्व-प्रतिरक्षित और कैंसर जैसी अन्य बीमारियों का भी पता लगाया जा सकता है।”

शोधकर्ताओं के अनुसार, नए नैदानिक ​​उपकरण इस अतिरंजना के कुछ दुष्प्रभावों से रोगियों को बचाएंगे। वे इस रोग के फिर से सक्रिय होने के उच्च जोखिम वाले रोगियों की पहचान करने में भी मदद करेंगे। साथ ही, जिन रोगियों को इस चिकित्सा से लाभ होगा, उन्हें इन उपकरणों का उपयोग करके पहचाना जा सकता है।

ऐसे उपकरणों के माध्यम से विभिन्न बायोमार्कर विश्लेषण की यह शुरूआत टीबी के सटीक निदान की संभावना को बढ़ाती है।

ताज़ा खबर

TabletWise.com
Home
Saved

साइन अप