Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए बाध्य कर सकती है।

आवर्ती मस्तिष्क की रसौली का इलाज रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा से किया जा सकता है

लेखक   •  
शेयर
आवर्ती मस्तिष्क की रसौली का इलाज रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा से किया जा सकता है
Read in English

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स (यूसीएलए) के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में हुए एक शोध में बताया गया है कि सर्जरी से पहले रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा बार-बार होने वाली ग्लियोब्लास्टोमा नामक मस्तिष्क की रसौली के इलाज के लिए अधिक प्रभावी है।

यह अध्ययन 11 फरवरी, 2019 को नेचर मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित हुआ था।

यूसीएलए की अगुवाई में किए गए इस अध्ययन में यह बताया गया है कि सर्जरी से पहले रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा का उपयोग सर्जरी के बाद किये गए उपयोग से अधिक प्रभावशाली होता है। नव विकसित दवा को बार-बार होने वाली ग्लियोब्लास्टोमा वाले लोगों के लिए आदर्श दवा बताया गया है।

ग्लियोब्लास्टोमा वयस्कों में प्राथमिक दुर्भावनापूर्ण मस्तिष्क की रसौली होती है। यह मस्तिष्क कैंसर का विनाशकारी और विषाक्त रूप है। इस कैंसर से पीड़ित मरीज मुश्किल से छह से नौ महीने तक जीवित रहते हैं।

रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए बाध्य कर सकती है। हालांकि ये दवाएं पहले से ही उन्नत या मेटास्टेटिक कैंसर के रोगियों के लिए सर्वोत्तम साबित हुई हैं, लेकिन अभी इसका ग्लियोब्लास्टोमा के इलाज में लाभ देखना बाकि है।

अध्ययन के वरिष्ठ लेखक, रॉबर्ट प्रिन्स ने कहा, "परिणाम बहुत उत्साहजनक हैं। यह पहला संकेत है कि रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा घातक मस्तिष्क की रसौली के रोगियों के लिए एक नैदानिक लाभ हो सकता है और भविष्य की पुनरावृत्ति को रोकने में मदद कर सकता है।”

प्रिन्स ने आगे कहा, “यह जानकारी हमें उन तंत्रों की बेहतर समझ के लिए प्रेरित कर सकती है जिनके द्वारा कुछ रोगी इस चिकित्सा से महत्वपूर्ण प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करते हैं जबकि अन्य नहीं।”

जिफेन मेडिसिन स्कूल में न्यूरो-ऑन्कोलॉजी के एक प्रोफेसर डॉ टिमोथी क्लॉसी ने कहा, “सर्जरी से पहले रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा देकर, हमने रसौली के भीतर टी कोशिकाओं को सक्रिय किया जो पहले कार्यात्मक रूप से बिगड़ी हुई थी, जो अनिवार्य रूप से लोगों के जीवन को आगे बढ़ाने में मदद करता है।"

क्लॉसी ने यह भी कहा, "यह एक बहुत बड़ा अध्ययन नहीं है, और हमारी जानकारी को दोहराने की आवश्यकता है, लेकिन हमारा पैर दरवाजे में है।"

अध्ययन में पहली बार पता चला है कि पेम्ब्रोलीज़ुमैब दवा बार-बार होने वाले ग्लियोब्लास्टोमा के उपचार में प्रभावी हो सकती है। अध्ययन के दौरान, रोगियों को उनकी सर्जरी से पहले यह दवा दी गई थी और वे उन रोगियों से दो गुना ज़्यादा जिंदा रहे जिन्हे यह दवा सर्जरी के बाद दी गयी थी।

पेम्ब्रोलीज़ुमैब एक प्रतिरक्षी दवा है और यह पीडी -1 नामक प्रोटीन में बाधा डालकर कार्य करती है। यह प्रोटीन मानव शरीर में टी कोशिकाओं को कैंसर कोशिकाओं पर हमला करने से रोकता है। शरीर में कैंसर कोशिकाएं पीडी कोशिकाओं को दूर रखने के लिए पीडी -1 प्रोटीन का उपयोग करती हैं। पेम्ब्रोलीज़ुमैब जैसी अवरोधक दवा के साथ इस प्रोटीन की व्यवस्था हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कैंसर से लड़ने में मदद करती है।

यह अध्ययन अमेरिका में सात अलग-अलग चिकित्सा केंद्रों में आयोजित किया गया था। शोध के दौरान बार-बार होने वाले ग्लियोब्लास्टोमा से पीड़ित लगभग 35 रोगियों की गतिविधियों का विश्लेषण किया गया था। उन प्रतिभागियों में से, 16 रोगियों को उनकी सर्जरी से पहले पेम्ब्रोलीज़ुमैब दवा दी गयी और अन्य 19 को सर्जरी के बाद दवा दी गई थी।

अध्ययन में यह पाया गया कि जिन लोगों का सर्जरी से पहले दवा के साथ इलाज किया गया था वे औसतन 417 दिनों तक जीवित रहे। सर्जरी के बाद जिन लोगों का इस दवा से इलाज किया गया, वे औसतन 228 दिनों तक ही जीवित रहे।

शोधकर्ताओं ने अपने इस परीक्षण के दौरान एक महत्वपूर्ण तथ्य का पता लगाया। उन्होंने पाया कि विशिष्ट प्रतिजन टी कोशिकाएं रसौली और आसपास के सूक्ष्म पर्यावरण के कारण कमजोर हो सकती हैं। लेकिन टी कोशिकाओं को सर्जरी से पहले दवा का उपयोग करके जागृत किया जा सकता है ताकि वह अच्छे से काम करें।

हालाँकि, सर्जरी के बाद यह दवा काम नहीं करती है। इसका कारण यह है कि सर्जरी के दौरान रसौली के साथ-साथ रोगी की टी कोशिकाएं भी हटा दी जाती हैं।

ये परिणाम वास्तव में दिलचस्प हैं और आगे के उपचार में सहायता कर सकते हैं। शोधकर्ताओं की टीम अब अन्य टीकों और अवरोधकों के साथ-साथ रोग-प्रतिरक्षाचिकित्सा दवाओं के परीक्षण के लिए तत्पर है।

ताज़ा खबर

TabletWise.com
Home
Saved

साइन अप