Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
सामान्य वजन वाला व्यक्ति जो बहुत कम व्यायाम करता है और ज्यादातर समय बैठने में व्यतीत करता है उसमें हृदय समस्या होने के खतरे होते हैं।

सुस्त लोगों में हृदय की समस्या का खतरा मोटे लोगों जितना हो सकता है

लेखक   •  
शेयर
सुस्त लोगों में हृदय की समस्या का खतरा मोटे लोगों जितना हो सकता है
Read in English

एक अध्ययन से पता चलता है कि वह वयस्क जो स्वस्थ रहने के बावजूद एक गतिहीन जीवन शैली रखते हैं उनमें हृदय की समस्या या स्ट्रोक होने का खतरा अधिक वजन वाले लोगों जितना ही हो सकता है।

शोधकर्ताओं द्वारा यह पता लगाया गया है कि एक सामान्य वजन वाला व्यक्ति जो एक सप्ताह में 150 मिनट की मध्यम गतिविधि करता है, लेकिन दिन का ज्यादातर समय बैठ कर बिताता है, उसे अधिक वजन वाले लोगों की तुलना में दिल का दौरा पड़ने या स्ट्रोक होने का खतरा 58% कम होता है।

लेकिन यदि, सामान्य-वजन वाला व्यक्ति बहुत कम व्यायाम करता है और ज्यादातर समय बैठने में बिताता है, तो उसे गंभीर हृदय संबंधी समस्या होने का खतरा अधिक वजन वाले लोगों जितना ही होता है।

यह शोध 40 से 79 वर्ष के लोगों पर किया गया था। इन लोगों में हृदय संबंधी रोग का कोई इतिहास नहीं था। शोध के परिणामों के अनुसार लगभग 30% प्रतिभागियों को दिल का दौरा या स्ट्रोक होने का उच्च खतरा था।

गेन्सविले में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के प्रमुख अध्ययन लेखक आर्क मेनस ने कहा, '' सामान्य वजन का होना स्वस्थ होने के लिए पर्याप्त नहीं है। यह मरीजों के लिए मायने रखता है क्योंकि उन्हें केवल अपने वजन की संख्या को देखकर झूठी तस्सली मिल सकती है।”

उन्होंने यह भी कहा, "जब लोग गतिहीन होते हैं - विशेष रूप से मध्यम आयु और उससे बढ़ी उम्र के लोग - उनमें दुबली मांसपेशियां और हृदय तथा श्‍वास संबंधी तंदरुस्ती कम हो जाती है।"

जैक्सन विश्वविद्यालय के मिसिसिपी मेडिकल सेंटर के एक शोधकर्ता डॉ माइकल हॉल ने कहा, "सामान्य वजन की बीएमआई श्रेणी में होना अच्छी बात है, लेकिन गतिहीनता को कम करने और शारीरिक गतिविधि में वृद्धि करने के भी कई महत्वपूर्ण लाभ हैं।"

उन्होंने यह भी कहा, "छोटी छोटी चीज़ें करने से जैसे सीढ़ियों से जाना, दिन में कुछ समय के लिए चलना या गतिविधियां करने से सुस्त व्यवहार से जुड़े कुछ खतरों को दूर करने में मदद मिल सकती है।"

गतिहीन जीवन शैली वयस्कों में उच्च रक्त शर्करा के साथ भी जुड़ी हुई है। गतिहीन जीवन शैली वाले लोगों में पतली वसा होती है। बॉडी मास इंडेक्स है सामान्य सीमा के भीतर होता है, लेकिन दुबली मांसपेशियों बजाए वसा का एक बड़ा अनुपात है।

यह पुरुषों के शरीर में 25 प्रतिशत से अधिक वसा और महिलाओं में 35 प्रतिशत से अधिक वसा बनाता है। इन विशेषताओं वाले लोगों में चयापचय सिंड्रोम होता है, जिसमें उच्च रक्तचाप, रक्त में शर्करा के उच्च स्तर और कोलेस्ट्रॉल का असामान्य स्तर शामिल होता है।

शोध के अनुसार 18.5 से 24.9 तक का बीएमआई और गतिहीन जीवन शैली, व्यक्तियों में हृदय-वाहिनी रोग होने का खतरा बढ़ा देते हैं।

शोधकर्ताओं ने सलाह दी है कि स्वास्थ्य समस्याओं के खतरे को कम करने के लिए गतिहीन जीवन शैली वाले लोगों को अधिक शारीरिक गतिविधियों में शामिल होना चाहिए।

ताज़ा खबर

TabletWise.com