Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 
आहार में वसायुक्त मछली, मशरूम, ब्रेड, संतरे का रस या दूध शामिल करना रक्त में विटामिन डी के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

विटामिन डी मोटे बच्चों को अस्थमा पैदा करने वाले प्रदूषण से बचाने में मददगार

लेखक   •  
शेयर
विटामिन डी मोटे बच्चों को अस्थमा पैदा करने वाले प्रदूषण से बचाने में मददगार
Read in English

एक नए अध्ययन में यह पाया गया है कि विटामिन डी उन अस्थमा से ग्रस्त बच्चों की रक्षा कर सकता है जो घर के अंदर के वायु प्रदूषण से घिरे हुए होते हैं।

यह अध्ययन जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा आयोजित किया गया था और नेशनल इन्टीटूट्स ऑफ़ हेल्थ द्वारा इसे संचालित करने के लिए पूंजी दी गई थी। यह 11 फरवरी, 2019 को द जर्नल ऑफ एलर्जी एंड क्लिनिकल इम्यूनोलॉजी: इन प्रैक्टिस पत्रिका में प्रकाशित हुआ था।

इस अध्ययन में यह पाया गया की विटामिन डी मोटे बच्चों को अस्थमा से बचा सकता है। यह शहरी क्षेत्रों में रहने वाले घर के अंदर के वायु प्रदूषण से ग्रस्त बच्चों के लिए भी सहायक है।

अस्थमा एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के वायुमार्ग संकीर्ण हो जाते हैं और सूज जाते हैं, जिसके कारण वे अतिरिक्त बलगम पैदा करते हैं। इससे व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई होती है और खांसी, घरघराहट जैसी तकलीफे भी होती है। हालांकि अस्थमा लाइलाज है, लेकिन इसके लक्षणों को नियंत्रित किया जा सकता है।

घर के अंदर वायु प्रदूषण बीड़ी, सिगरेट, खाना पकाने के धुएं, मोमबत्तियों और धूप के जलने से होता है। यह शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में श्वसन संबंधी समस्याओं का एक प्रमुख कारण है। यह अस्थमा की स्तिथि को और भी खराब कर सकता है जिस वजह से रोगी को बार बार हस्पताल जाना पड़ सकता है।

अध्ययन का संचालन करने के लिए, बाल्टीमोर क्षेत्र में अस्थमा से पीड़ित 120 स्कूल के बच्चों का चयन किया गया। इन 120 प्रतिभागियों में से लगभग 40 मोटे थे। इसके अलावा, अध्ययन को संचालित करने के लिए तीन कारकों का परीक्षण किया गया। इनमें घरों में वायु प्रदूषण का स्तर, रक्त में विटामिन डी का स्तर और अस्थमा के लक्षण शामिल थे।

अध्ययन की शुरुआत में प्रतिभागियों पर कुछ परीक्षण किए गए और फिर अगले 9 महीने की अवधि में तीन बार और परीक्षण किये गए। पिछले अध्ययनों द्वारा, शोधकर्ताओं को यह पहले से ही पता था कि विटामिन डी अस्थमा को प्रभावित करता है क्योंकि यह व्यक्ति में एंटीऑक्सिडेंट या प्रतिरक्षा संबंधी प्रणाली पर प्रभाव डालता है।

शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन के माध्यम से यह पाया कि अस्थमा से पीड़ित मोटे बच्चों पर घर के अंदर के प्रदूषण का प्रभाव खून में विटामिन डी की कमी से संबंधित था।

दूसरी ओर, बच्चों के उपर्युक्त वर्ग की तुलना में खून में विटामिन डी के उच्च स्तर वाले बच्चों में कोई नकारात्मक संकेत नहीं दिखे यदि वे घर के अंदर के प्रदूषण के अधिक संपर्क में हों।

जॉन्स हॉपकिन्स में डिवीज़न ऑफ़ पल्मनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन के निदेशक, एवं इस अध्ययन के वरिष्ठ लेखक नाडिया हंसल ने कहा, “एक अन्य महत्वपूर्ण बात यह है कि कैसे कम आमदनी वाले शहरी समुदायों में अस्थमा के बोझ को बढ़ाने के लिए जटिल वातावरण का बहुत बड़ा हाथ है। हमारे परिणाम यह बताते हैं कि इस समुदाय में अस्थमा के बोझ में सुधार करने के लिए बहुत सारे अन्य तत्वों और लक्षणों पर ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है।

इस अध्ययन की प्रमुख लेखिका सोनाली बोस ने कहा, "यह स्पष्ट हो गया है कि अफ्रीकी-अमेरिकी बच्चों को विटामिन डी की कमी का खतरा होता है, खास कर के काले बच्चों को। इसके अलावा आंतरिक शहर के अल्पसंख्यक बच्चों को भी अस्थमा का खतरा हो सकता है। ऐसा लग रहा था कि विटामिन डी की कमी और अस्थमा किसी तरह संबंधित हो सकते थे। ”

उन्होंने कहा, “हमें सबसे ज्यादा हैरानी इस बात की थी कि अध्ययन के निष्कर्षों से पता चला कि इसका सबसे अधिक प्रभाव मोटे बच्चों पर था। यह यहाँ अस्थमा के एक तीसरे कारक पर प्रकाश डालता है - मोटापा महामारी - और अस्थमा के लिए व्यक्तिगत संवेदनशीलता पर विचार करते हुए इसके जोखिम के बारे में सोचने में मदद करता है।”

डीएनए इंडिया के अनुसार भारत में 5-11 वर्ष आयु वर्ग के लगभग 10% से 15% बच्चे अस्थमा से पीड़ित हैं। साथ ही, भारत में लगभग 2 करोड़ लोग वर्तमान में अस्थमा से पीड़ित हैं।

आगे के अध्ययन में बच्चों के खून में विटामिन डी के स्तर को बढ़ाने में मदद करने वाले तरीकों की खोज शामिल होगी। इस से रोगियों को अस्थमा से लड़ने में मदद मिलगी और उन्हें पर्यावरणीय अपमान के प्रति अधिक स्थिति-स्थापक बनाया जाएगा।

ज्यादा समय के लिए सूरज के संपर्क में आना, विटामिन डी से भरपूर भोजन खाना जैसे वसायुक्त मछली, मशरूम, ब्रेड, संतरे का रस या दूध पिने से खून में विटामिन डी के स्तर को बढ़ाया जा सकता है।

ताज़ा खबर

TabletWise.com
Home
Saved

साइन अप