Get a month of TabletWise Pro for free! Click here to redeem 
TabletWise.com
 

जब आप अपने बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार होती हैं तो आपको प्रसव पीड़ा होती है। प्रसव पीड़ा जन्म देने की प्रक्रिया है। आपकी प्रसव पीड़ा के निम्नलिखित संकेत हो सकते हैं

  • संकुचन जो नियमित होते हैं इसके बाद एक साथ आने लगते हैं
  • योनि से तरल या रक्तस्राव होना
  • हल्का पीठदर्द
  • पेट में मरोड़

यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण महसूस होता है तो अपने चिकित्सक को बताएं, भले ही यह आपकी प्रसव तिथि से पहले क्यों ना हो। अवधिपूर्व प्रसव पीड़ागर्भावस्था के 37 हफ्ते पूरे होने से पहले शुरू हो सकती है।

प्रसव पीड़ा तीन चरणों में होती है। पहला चरण संकुचन के साथ शुरू होता है। यह तब तक रहता है जबतक कि आपकी गर्भाशय ग्रीवा पतली नहीं हो जाती और लगभग चार इंच तक फैल नहीं जाती है। दूसरा चरण है सक्रिय चरण, जिसमें आप नीचे धक्का देना शुरू करती हैं। क्राउनिंग तब होता है जब बच्चे का सिर दिखना शुरू हो जाता है। इसके थोड़ी देर बाद, आपका बच्चा जन्म लेता है। तीसरे चरण में, आप प्लेसेंटा डिलीवर करती हैं। प्लेसेंटा वो अंग है जो गर्भावस्था के दौरान आपके बच्चे को आहार और ऑक्सीजन प्रदान करता है।

प्रसव के दौरान माँ और बच्चे पर सावधानीपूर्वक ध्यान दिया जाता है। ज्यादातर महिलाएं सामान्य योनिक डिलीवरी के माध्यम से बच्चे को जन्म देने में सक्षम होती हैं। जटिलताएंहोने पर, आपको सीजेरियन सेक्शनसे बच्चे को डिलीवर करने की जरुरत पड़ सकती है।

एनआईएच: राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य और मानव विकास संस्थान

अंतिम अद्यतन तिथि

यह पृष्ठ पिछले 2/04/2019 पर अद्यतन किया गया था।
यह पृष्ठ प्रसव के लिए जानकारी प्रदान करता है।
सीजेरियन सेक्शन
प्रसव समस्याओं
गर्भावस्था में स्वास्थ्य समस्याएं
पोस्टपार्टम केयर
अपरिपक्व प्रसूति
ट्विंस, ट्रिपल, मल्टीपल बर्थ

साइन अप