Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 

मधुमेह को नियंत्रित करना

स्वास्थ्य    Diabetes    मधुमेह को नियंत्रित करना

आप रोज़ अपनी देखभाल करके मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं और लंबा और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

मधुमेह आपके शरीर के लगभग हर हिस्से को प्रभावित कर सकता है। इसलिए, आपको अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर को नियंत्रित करने की आवश्यकता होगी, जिसे रक्त शर्करा भी कहा जाता है। अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करके, आप मधुमेह के दौरान होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं को रोक सकते हैं।

आप अपने मधुमेह को कैसे नियंत्रित कर सकते हैं?

आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम की मदद से, आप अपने मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए एक स्वयं-देखभाल योजना बना सकते हैं। आपकी स्वयं-देखभाल योजना में नीचे दिए गए तरीके शामिल हो सकते हैं:

अपने मधुमेह को नियंत्रित करने के तरीके

  • रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर, रक्तचाप, और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करें।
  • मधुमेह के लिए अपनी भोजन योजना का पालन करें।
  • अपनी दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि को शामिल करें।
  • अपनी दवा लें।
  • अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करें।
  • अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के साथ काम करें।
  • स्वस्थ तरीकों से अपने मधुमेह का सामना करें।

रक्त में ग्लूकोज़, रक्तचाप, और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करें।

आपके मधुमेह को जानने के लिए आपको रक्त में ग्लूकोज़, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। यदि आप धूम्रपान करते हैं तो धूम्रपान को रोक कर आप मधुमेह को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकते हैं। इन लक्ष्यों की ओर काम करने से आप दिल का दौरा, स्ट्रोक या अन्य मधुमेह की समस्या होने की संभावना को कम कर सकते हैं।

ए1सी परीक्षण

ए1सी परीक्षण आपके रक्त में ग्लूकोज़ के पिछले 3 महीनों के सामान्य स्तरों को दिखाता है। मधुमेह वाले ज़्यादातर लोगों के लिए ए1सी लक्ष्य 7 प्रतिशत से कम होता है। अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से पूछें कि आपका लक्ष्य क्या होना चाहिए।

रक्तचाप

मधुमेह वाले ज़्यादातर लोगों के लिए रक्तचाप लक्ष्य 140/90 मिलीमीटर एचजी (mm Hg) से नीचे होता है। डॉक्टर से पूछें कि आपका लक्ष्य क्या होना चाहिए।

कोलेस्ट्रॉल

आपके रक्त में दो प्रकार के कोलेस्ट्रॉल होते हैं: कम-घनत्व लिपोप्रोटीन (LDL) और उच्च घनत्व लिपोप्रोटीन (HDL)। कम-घनत्व लिपोप्रोटीन या "खराब" कोलेस्ट्रॉल में वृद्धि हो सकती है जिससे वह आपकी रक्त वाहिकाओं में रूकावट डाल सकता है। अत्यधिक खराब कोलेस्ट्रॉल के होने से दिल का दौरा या स्ट्रोक हो सकता है। उच्च घनत्व लिपोप्रोटीन या "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल आपकी रक्त वाहिकाओं से "खराब" कोलेस्ट्रॉल को हटाने में मदद करता है।

अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से पूछें कि आपके कोलेस्ट्रॉल की मात्रा क्या होनी चाहिए। यदि आपकी उम्र 40 वर्ष से अधिक है, तो आपको हृदय के स्वास्थ्य के लिए स्टेटिन (statin) दवा लेने की आवश्यकता हो सकती है।

धूम्रपान करना बंद करें

मधुमेह वाले लोगों के लिए धूम्रपान न करना बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि धूम्रपान और मधुमेह दोनों के कारण रक्त वाहिकाएं सिकुड़ सकती हैं। रक्त वाहिकाओं में संकुचन आने से आपके हृदय को काम करने में कठिनाई आती है।

यदि आप धूम्रपान छोड़ देते हैं -

  • आप दिल के दौरा, स्ट्रोक, नसों के रोग, गुर्दे की बीमारी, मधुमेह संबंधी आंखों की बीमारी, और किसी अंग के हटाए जाने के ख़तरे को कम कर सकते हैं
  • आपके कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप के स्तर में सुधार हो सकता है
  • आपके रक्त के संचार में सुधार होगा
  • आपको शारीरिक रूप से सक्रिय होने में आसानी होगी

यदि आप धूम्रपान करते हैं या अन्य तंबाकू उत्पादों का प्रयोग करते हैं, तो उसे बंद करें।

अपने रक्तचाप, रक्त में ग्लूकोज़, और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को अपनी लक्षित संख्या के करीब रखने और धूम्रपान रोकने से मधुमेह के लंबे समय के लिए होने वाले हानिकारक प्रभावों से बचने में मदद मिल सकती है। इन स्वास्थ्य समस्याओं में हृदय के रोग, स्ट्रोक, गुर्दे की बीमारी, नसों की क्षति, और आंख की बीमारी शामिल हैं। अपने डॉक्टर से आपके लक्ष्यों, स्वास्थ्य, और क्या आपको अपनी मधुमेह के लिए बनाई गई देखभाल योजना में कोई बदलाव करने की आवश्यकता है या नहीं, इस सब के बारे में बात करें।

मधुमेह के लिए अपनी भोजन योजना का पालन करें

अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम की मदद से मधुमेह के लिए भोजन योजना बनाएं। भोजन योजना से आपको अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी।

खाने के लिए फल, सब्जियां, फलियां, साबुत अनाज, चिकन, मछली, बिना चर्बी वाला मांस या कम चर्बी वाला दूध और पनीर चुनें। शक्कर युक्त पेय की बजाए पानी पिएं। ऐसे भोजन चुनें जिनमें कैलोरी, संतृप्त चर्बी (saturated fat), ट्रांस चर्बी, शक्कर और नमक की मात्रा कम हो।

शारीरिक गतिविधि को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं

शारीरिक रूप से अधिक सक्रिय होने का लक्ष्य निर्धारित करें। सप्ताह के ज़्यादातर दिनों में 30 मिनट या उससे अधिक समय के लिए शारीरिक गतिविधि करने का प्रयास करें।

तेज़ चलना और तैराकी करना अधिक शारीरिक गतिविधि करने के अच्छे तरीके हैं। यदि आप अभी सक्रिय नहीं हैं, तो अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से शारीरिक गतिविधियों के उन प्रकारों और मात्रा के बारे में पूछें जो आपके लिए सही हैं।

अपनी भोजन योजना का पालन करके और अधिक सक्रिय होने से आपको स्वस्थ वजन पर रहने या प्राप्त करने में मदद मिलेगी। यदि आपका वजन अधिक है या आप मोटे हैं, तो अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम की मदद से वजन कम करने के तरीकों की योजना बनाएं।

अपनी दवा लें

मधुमेह और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लिए अपनी दवाएं लेना जारी रखें, भले ही आप अच्छा महसूस करें या अपने रक्त में ग्लूकोज़़ के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के लिए निर्धारित लक्ष्यों तक पहुंच जाएं। यह दवाईयां आपके रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। अपने डॉक्टर से पूछें कि आपको दिल का दौरा या स्ट्रोक रोकने के लिए एस्पिरिन (aspirin) लेने की आवश्यकता है या नहीं। यदि आप यह दवाईयां नहीं ख़रीद सकते या आपको इन दवाओं से कोई दुष्प्रभाव होते हैं तो अपने स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ को बताएं।

अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करें

मधुमेह वाले कई लोगों के लिए, हर दिन उनके रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करना, उनके मधुमेह को नियंत्रित करने का एक महत्वपूर्ण तरीका है। यदि आप इंसुलिन लेते हैं तो आपके रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की निगरानी रखना सबसे महत्वपूर्ण है। रक्त में ग्लूकोज़ की जांच के परिणाम आपको भोजन, शारीरिक गतिविधि और दवाओं के बारे में निर्णय लेने में मदद कर सकते हैं।

घर पर अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करने का सबसे आम तरीका है - रक्त ग्लूकोज़ मीटर। इसमें आप एक सुई जैसे दिखने वाले यंत्र को अपनी उंगली के ऊपरी भाग पर चुभा कर खून की एक बूँद निकालेंगे। उसके बाद आप इस खून के नमूने को जांच की पट्टी (test strip) पर लगाएंगे। मीटर आपको दिखाएगा कि उस समय आपके रक्त में ग्लूकोज़ की कितनी मात्रा है।

अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से पूछें कि आपको कितनी बार अपने रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करनी चाहिए।

निरंतर ग्लूकोज़ मॉनिटरिंग (Continuous glucose monitoring - CGM) क्या है?

निरंतर ग्लूकोज़ मॉनिटरिंग (CGM) आपके ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करने का एक दूसरा तरीका है। निरंतर ग्लूकोज़ मॉनिटरिंग सिस्टम में एक छोटे से संवेदक का उपयोग किया जाता है जिसे आप अपनी चमड़ी के अंदर डालते हैं। यह संवेदक हर कुछ मिनटों में आपके शरीर की कोशिकाओं के बीच मौजूद तरल पदार्थों में ग्लूकोज़ के स्तर को मापता है और दिन और रात के दौरान आपके ग्लूकोज़ के स्तरों में होने वाले परिवर्तन दिखा सकता है। यदि यह सिस्टम दिखाता है कि आपका ग्लूकोज़ बहुत अधिक या बहुत कम है, तो आपको अपनी खाने की योजना, शारीरिक गतिविधि या दवाओं में कोई भी बदलाव करने से पहले रक्त ग्लूकोज़ मीटर के साथ अपने ग्लूकोज़ की जांच करनी चाहिए। यह सिस्टम विशेष रूप से उन लोगों के लिए उपयोगी है जो इंसुलिन का प्रयोग करते हैं और जिनमें रक्त में ग्लूकोज़ के कम स्तर होने की समस्याएं होती हैं।

रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर की संख्या कितनी होने की सलाह दी जाती है?

मधुमेह वाले बहुत से लोग अपने रक्त में ग्लूकोज़ को इन सामान्य स्तरों पर रखना चाहते हैं:

  • भोजन से पहले: 80 से 130 mg/dL
  • भोजन करना शुरू करने के लगभग 2 घंटे बाद: 180 mg/dL से कम अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के साथ आपके लिए सबसे अच्छी लक्षित संख्या के बारे में बात करें। यदि आपके ग्लूकोज़ के स्तर अक्सर लक्षित संख्या से ऊपर या नीचे जाते हैं तो अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं।

अगर आपके रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर बहुत कम हो जाए तो क्या होता है?

कभी-कभी रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर सामान्य से नीचे गिर जाता है, जिसे अल्पशर्करारक्तता (hypoglycemia) कहा जाता है। मधुमेह वाले ज़्यादातर लोगों के लिए जब रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर 70 mg/dL से नीचे होता है तो उसे रक्त में ग्लूकोज़ का बहुत कम होना माना जाता है।

अल्पशर्करारक्तता से आपकी जान को खतरा हो सकता इसलिए इसका तुरंत इलाज किया जाना चाहिए।

अगर आपके रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर बहुत अधिक हो जाए तो क्या होता है?

रक्त में ग्लूकोज़ के उच्च स्तर को अतिशर्करारक्‍तता (hyperglycemia) कहा जाता है।

इसके लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • प्यास लगना
  • थका हुआ या कमजोर महसूस होना
  • सिरदर्द होना
  • बार बार पेशाब आना
  • दृष्टि में धुंधलापन

यदि आपको रक्त में ग्लूकोज़ के उच्च स्तर हों या इसके लक्षण हों, तो अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से बात करें। आपको अपनी मधुमेह के लिए बनाई गई भोजन योजना, शारीरिक गतिविधि योजना, या दवाओं में बदलाव की आवश्यकता हो सकती है।

कीटोन की जांच कब करें?

यदि आपको मधुमेह संबंधी कीटोएसिडता (diabetic ketoacidosis) के लक्षण हैं तो आपका डॉक्टर कीटोन के लिए आपके पेशाब की जांच कर सकता है। जब कीटोन का स्तर बहुत ज्यादा हो जाता है, तो आपको जान को खतरे में डालने वाली यह स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। इसके लक्षणों में शामिल हैं

  • साँस लेने में कठिनाई होना
  • उलटी आना या जी मिचलाना
  • पेट में दर्द होना
  • मानसिक उलझन
  • बहुत थका हुआ महसूस होना या नींद आना

कीटोएसिडता अक्सर टाइप 1 मधुमेह (type 1 diabetes) वाले लोगों में होती है।

अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के साथ मिलकर काम करें

मधुमेह वाले ज़्यादातर लोगों को उनके प्राथमिक देखभाल विशेषज्ञ से संपूर्ण देखभाल मिलती है। स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ में पारिवारिक डॉक्टर और बच्चों के डॉक्टर शामिल होते हैं। कभी-कभी डॉक्टर के सहायक और नर्स भी प्राथमिक देखभाल प्रदान करते हैं। स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञों की टीम आपको मधुमेह के लिए स्वयं की देखभाल में सुधार करने में मदद कर सकती है। याद रखें, आप अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के सबसे महत्वपूर्ण सदस्य हैं।

प्राथमिक देखभाल विशेषज्ञ के अलावा, आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं

  • मधुमेह की अधिक विशेष देखभाल के लिए एक अन्त:स्त्रावविज्ञानी (endocrinologist)
  • एक प्रमाणित आहार विशेषज्ञ, जिसे पोषण विशेषज्ञ भी कहा जाता है
  • नर्स
  • मधुमेह का प्रमाणित शिक्षक
  • केमिस्ट
  • दांतों का डॉक्टर
  • आँखों का डॉक्टर
  • पैरों का डॉक्टर
  • एक समाज सेवक, जो आपको उपचार के लिए आर्थिक सहायता प्राप्त करने में मदद कर सकता है
  • एक सलाहकार या अन्य मानसिक स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ

जब आप अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के सदस्यों से मिलते हैं तो उनसे प्रश्न ज़रूर पूछें। मिलने से पहले प्रश्नों की एक सूची तैयार कर लें ताकि आप जो भी पूछना चाहते हैं उसे भूले नहीं।

यदि आपको अधिक समस्याएं आ रही हैं या आपको रक्त में ग्लूकोज़, रक्तचाप या कोलेस्ट्रॉल के लक्षित स्तरों तक पहुंचने में परेशानी हो रही है तो आपको साल में कम से कम दो बार अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम के पास जाना चाहिए। डॉक्टर के पास जाने पर अपने रक्तचाप, पैरों, और वजन की जांच और अपनी देखभाल योजना का फिर से निरीक्षण करवाएं। अपनी दवाइयों और क्या उनमें किसी बदलाव की ज़रूरत है या नहीं, इस बारे में अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से बात करें। स्वास्थ्य की नियमित देखभाल आपको किसी भी स्वास्थ्य समस्या का जल्दी पता करने, इलाज करने और रोकने में मदद करेगी।

अपने डॉक्टर से बात करें कि बीमार होने से बचने के लिए आपको कौन से टीकों की ज़रूरत होगी। बीमारी को रोकना अपने मधुमेह की देखभाल करने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जब आप बीमार होते हैं या आपको कोई संक्रमण होता है तो आपके रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर बढ़ने की अधिक संभावना होती है।

स्वस्थ तरीके से अपने मधुमेह को नियंत्रित करें

मधुमेह के दौरान आपको तनाव होना, उदास होना और गुस्सा आना आम बात है। तनाव आपके रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर को बढ़ा सकता है, लेकिन आप अपने तनाव को कम करने के तरीके सीख सकते हैं। गहरी सांस लेने की कोशिश करें, बागवानी करें, सैर करें, योगा करें, ध्यान लगाएं, अपने शौक की चीज़ें करें, या अपने पसंदीदा गाने सुनें।

किसी पुरानी या लंबे समय से चली आ रही बीमारी से पीड़ित लोगों में विषाद होना आम है। विषाद आपके मधुमेह को नियंत्रित करने की कोशिशों में बाधा बन सकता है। अगर आप निराश महसूस करते हैं तो मदद के लिए कहें। मानसिक स्वास्थ्य सलाहकार, समर्थन समूह, मित्र, या परिवार के किसी सदस्य से अपनी भावनाएं साझा करके आप बेहतर महसूस करेंगे।

रात को 7 से 8 घंटे सोने की कोशिश करें। पर्याप्त नींद लेना आपकी मनोदशा और ऊर्जा के स्तर को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। आप अपनी नींद की आदतों को सुधारने के लिए कई कदम उठा सकते हैं। यदि आपको दिन के दौरान नींद आती है, तो आपको रात को सोते समय सांस लेने की ऐसी समस्या हो सकती है, जिसमें आपको बार बार साँस आना बंद हो जाता है। मधुमेह वाले लोगों में सांस की यह समस्या होना आम है। अगर आपको लगता है कि आपको नींद की समस्या है तो अपनी स्वास्थ्य देखभाल टीम से बात करें।

याद रखें, मधुमेह को नियंत्रित करना आसान नहीं है, लेकिन इसको नियंत्रित करने के कई फायदे हैं।

समान विषय

संबंधित विषय


साइन अप