Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 

दिल का दौरा

स्वास्थ्य    दिल का दौरा

दिल का दौरा क्या है?

दिल का दौरा तब होता है जब दिल की मांसपेशियों के एक हिस्से में ऑक्सीजन युक्त रक्त का प्रवाह अचानक रुक जाता है और दिल को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती। अगर रक्त के प्रवाह को वापस जल्दी से शुरू नहीं किया जाता, तो दिल की मांसपेशियों का हिस्सा ख़तम होना शुरू हो जाता है।

दिल के दौरे का इलाज तब अच्छा काम करता है जब लक्षण होने के तुरंत बाद दिया जाता है। अगर आपको लगता है कि आपको या किसी और को दिल का दौरा आ रहा है, भले ही आप सुनिश्चित नहीं हैं, तुरंत डॉक्टर को संपर्क करें।

विवरण

दिल का दौरा अक्सर कोरोनरी हृदय रोग के परिणामस्वरूप होता है, जिसे कोरोनरी धमनी रोग भी कहा जाता है। यह ऐसी स्थिति है जिसमें मोम जैसा पदार्थ जिसे प्लाक (plaque) कहा जाता है, कोरोनरी धमनियों के अंदर बनता है। ये धमनियां आपके दिल तक ऑक्सीजन युक्त रक्त को पहुँचाती हैं।

जब प्लाक धमनियों में बनता है, तो स्थिति को एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) कहा जाता है। प्लाक का निर्माण कई सालों से होता रहता है।

आखिरकार, प्लाक का क्षेत्र धमनी के अंदर टूट सकता है। यह प्लाक की सतह पर खून के थक्के का कारण बनता है। अगर रक्त का थक्का काफी बड़ा हो जाता है, तो यह मुख्य रूप से कोरोनरी धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह को रोक सकता है।

अगर रूकावट का जल्दी से इलाज नहीं किया जाता, तो दिल की मांसपेशियों का हिस्सा धमनी से ख़तम होना शुरू हो जाता है। स्वस्थ दिल ऊतक, निशान ऊतक के साथ बदल जाते हैं। यह हृदय क्षति स्पष्ट नहीं हो सकती है, या इससे गंभीर या दीर्घकालिक समस्याएं हो सकती हैं।

मांसपेशियों की क्षति और रुकी हुई धमनी के साथ दिल

दिल के दौरे का आम कारण कोरोनरी धमनी की गंभीर ऐंठन (कसना) है। ऐंठन धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह काट कर अलग करता है। ऐंठन कोरोनरी धमनियों में हो सकते हैं जो एथेरोस्क्लेरोसिस से प्रभावित नहीं होते हैं।

दिल के दौरे गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़े हो सकते है या गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं जैसे दिल का खराब होना या दिल की धड़कन रुक जाने वाली खतरनाक स्तिथि का कारण बन सकते हैं।

ह्रदय का रुक जाना एक ऐसी स्थिति है जिसमें हृदय शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त रक्त को पंप नहीं कर सकता है। एरिथमिया अनियमित दिल की धड़कन है। वेंट्रिकुलर फिब्रिलैशन (Ventricular fibrillation) जीवन के लिए खतरा पैदा करने वाला एरिथमिया है, अगर इसका तुरंत इलाज न किया जाए तो यह मृत्यु का कारण बन सकता है

इंतजार न करें - जल्दी से सहायता प्राप्त करें

दिल के दौरे के लक्षणों के पहले संकेत पर तेजी से कार्य करना आपके जीवन को बचा सकता है और यह आपके दिल को कम नुकसान पहुँचाता है। लक्षण होने के तुरंत बाद उपचार सबसे अच्छा काम करता है।

बहुत से लोगों को दिल का दौरा होने के लक्षण होने पर समझ नहीं आता कि उन्हें क्या हो रहा है। पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए दिल के दौरे के सबसे आम चेतावनी लक्षण हैं:

  • छाती में दर्द या बेचैनी। अधिकांश दिल के दौरे में सीने के बीच या सीने के बाएं तरफ बेचैनी होती है। बेचैनी आमतौर पर कुछ मिनट से अधिक समय तक होती है या चली जाती है और फिर वापस आ जाती है। यह दबाव, छाती फूल जाना, या दर्द की तरह महसूस होती है। यह दिल की जलन या बदहजमी की तरह भी महसूस हो सकती है।
  • ऊपरी शरीर में बेचैनी। आप एक या दोनों बांहों, पीठ, कंधे, गर्दन, जबड़े, या पेट के ऊपरी भाग (नाभि के ऊपर) में दर्द या बेचैनी महसूस कर सकते हैं।
  • सांस की तकलीफ। यह आपका एकमात्र लक्षण हो सकता है, या यह छाती के दर्द या बेचैनी से पहले या उसके साथ हो सकता है। यह तब हो सकता है जब आप आराम कर रहे हों या शारीरिक गतिविधि कर रहे हों।

दिल के दौरे के अन्य संभावित लक्षणों में शामिल हैं:

  • अत्यधिक पसीने से भीग जाना
  • किसी भी कारण से असामान्य रूप से थक जाना, कभी-कभी काफी दिनों के लिए (विशेष रूप से यदि आप एक महिला हैं)
  • जी मिचलाना और उल्टी
  • हल्का सिरदर्द या अचानक चक्कर आना
  • अचानक से कोई भी, नए लक्षण या लक्षणों के बदलाव जो आपको पहले से ही हो चुके हैं (उदाहरण के लिए, यदि आपके लक्षण बढ़ जाते हैं या सामान्य से अधिक लंबे समय तक चलते हैं)

सभी दिल के दौरे अचानक छाती के दर्द से शुरू नहीं होते हैं जो अक्सर टीवी या फिल्मों में दिखाए जाते हैं, या छाती की बेचैनी जैसे अन्य लक्षण सामान्य होते हैं। दिल के दौरे के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग हो सकते हैं। कुछ लोगों को सामान्य लक्षण हो सकते हैं और यह जानकर उन्हें हैरानी होती है कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा है। यदि आपको पहले दिल का दौरा पड़ चुका है, तो आपके लक्षण किसी दूसरे के लिए समान नहीं हो सकते हैं।

तुरंत कार्रवाई आपके जीवन को बचा सकती है: डॉक्टर से संपर्क करें

अगर आपको लगता है कि आपको या किसी और को दिल के दौरे के लक्षण हैं या उन्हें दिल का दौरा पड़ा है, तो उसे अनदेखा न करें या मदद के लिए कॉल करने में शर्मिंदगी महसूस न करें। आपातकालीन चिकित्सा देखभाल के लिए डॉक्टर को कॉल करें। तेजी से इलाज करने से आपके जीवन को बचाया जा सकता है।

अस्पताल तक खुद गाड़ी चलाकर न जाएं, किसी ओर को गाड़ी चलाने दें। एम्बुलेंस से संपर्क करें ताकि चिकित्साकर्मी रास्ते में ही आपातकालीन कमरे में जीवन-बचत उपचार शुरू कर सकें। यदि आपके डॉक्टर ने इस प्रकार के उपचार की सलाह दी है तो नाइट्रोग्लिसरीन (nitroglycerin) की गोली लें।

दूसरे नाम

  • मायोकार्डियल इंफार्कशन (Myocardial infarction)
  • एक्यूट मायोकार्डियल इंफार्कशन (Acute myocardial infarction)
  • एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम (Acute coronary syndrome)
  • कोरोनरी थ्रॉम्बोसिस (Coronary thrombosis)
  • धमनियों में रक्त प्रवाह की रूकावट (Coronary occlusion)

कारण

हृदय - धमनी रोग

दिल का दौरा तब होता है जब दिल की मांसपेशियों के एक हिस्से में ऑक्सीजन युक्त रक्त के प्रवाह में अचानक रुकावट आ जाती है और दिल ऑक्सीजन प्राप्त नहीं कर पाता। कोरोनरी हृदय रोग के परिणामस्वरूप अधिकांश दिल का दौरा पड़ता है।

कोरोनरी धमनी में ऐंठन

दिल के दौरे का कम आम कारण कोरोनरी धमनी की गंभीर ऐंठन (कसना) है। ऐंठन धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह को काट कर अलग करती है। ऐंठन कोरोनरी धमनियों में हो सकती है जो एथेरोस्क्लेरोसिस से प्रभावित नहीं होती है।

ऐंठन के लिए कोरोनरी धमनी का कारण हमेशा स्पष्ट नहीं होता है। ऐंठन से संबंधित हो सकता है:

जोखिम कारक

कुछ जोखिम कारक अधिक संभावना बनाते हैं कि आपको कोरोनरी हृदय रोग होंगे और दिल का दौरा पड़ेगा। आप इनमें से कई जोखिम कारकों को नियंत्रित कर सकते हैं।

जोखिम कारक जिन्हें आप नियंत्रित कर सकते हैं

दिल के दौरे के लिए प्रमुख जोखिम कारक जिन्हें आप नियंत्रित कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

इनमें से कुछ जोखिम कारक - जैसे मोटापा, उच्च रक्तचाप, और रक्त में उच्च शक्कर साथ-साथ होते हैं। जब ये होते हैं, तो इसे चयापचय सिंड्रोम कहा जाता है।

आम तौर पर, एक व्यक्ति जिसे चयापचय सिंड्रोम होता है उसे हृदय रोग होने की संभावना दोगुनी होती है और उनमें मधुमेह होने की संभावना पांच गुना होती है जिन्हें चयापचय सिंड्रोम नहीं होता।

जोखिम कारक जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते

जोखिम कारक जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

  • उम्र। 45 साल की उम्र के बाद और 55 वर्ष (या मासिक धर्म के दौरान) की महिलाओं में हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।
  • वक़्त से पहले हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास। अगर 55 वर्ष से पहले आपके पिता या भाई को हृदय रोग का या 65 वर्ष से पहले आपकी मां या बहन को हृदय रोग का निदान किया गया था, तो आप में ह्रदय रोग होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • गर्भावस्था के दौरान होने वाले उच्च रक्तचाप (pre-eclampsia)। यह स्थिति गर्भावस्था के दौरान पैदा हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान होने वाले उच्च रक्तचाप के दो मुख्य लक्षण रक्तचाप और पेशाब में अतिरिक्त प्रोटीन हैं। यह जीवन भर की बीमारी के जोखिम से जुड़ा हुआ है, जिसमें कोरोनरी हृदय रोग, दिल का दौरा, ह्रदय का रुक जाना, और उच्च रक्तचाप शामिल हैं।

स्क्रीनिंग और रोकथाम

कोरोनरी हृदय रोग के लिए अपने जोखिम कारकों को कम करके आप दिल के दौरे को रोकने में मदद कर सकते हैं। यहां तक ​​कि यदि आपको पहले से ही कोरोनरी हृदय रोग है, तब भी आप दिल के दौरे के जोखिम को कम करने के लिए कदम उठा सकते हैं। इन कदमों में दिल की स्वस्थ जीवनशैली में बदलाव और संबंधित स्थितियों के लिए चल रही चिकित्सा देखभाल शामिल है जो दिल के दौरे की अधिक संभावना बनाती है। अपने डॉक्टर से बात करें कि क्या आप एस्पिरिन प्राथमिक रोकथाम से लाभ उठा सकते हैं, या अपने पहले दिल के दौरे को रोकने में मदद के लिए एस्पिरिन का उपयोग कर सकते हैं।

दिल की स्वस्थ जीवनशैली में बदलाव

दिल की स्वस्थ जीवनशैली, दिल के दौरे को रोकने में मदद कर सकती है और इसमें हृदय-स्वस्थ भोजन, शारीरिक रूप से सक्रिय होने, धूम्रपान छोड़ने, तनाव और अपने वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

चल रही देखभाल

संबंधित स्थितियों का इलाज करें

दिल के दौरे की संभावनाओं को बढ़ाने वाली स्थितियों का इलाज करने से दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। इन स्थितियों में शामिल हो सकते हैं:

  • मधुमेह (रक्त में शर्करा के उच्च स्तर)। यदि आपको मधुमेह है, तो भोजन और शारीरिक गतिविधि के माध्यम से अपने रक्त में शक़्कर के स्तर को नियंत्रित करने (जैसा कि आपका डॉक्टर सलाह देता है) का प्रयास करें। यदि आवश्यक हो, तो डॉक्टर द्वारा दी गई दवा लें।
  • रक्त में कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर। भोजन और कसरत पर्याप्त न होने पर आपका डॉक्टर आपके कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए एक स्टेटिन दवा लेने की सलाह दे सकता है।
  • उच्च रक्तचाप। आपका डॉक्टर आपके रक्तचाप या रक्त में शक़्कर के उच्च स्तर को नियंत्रण रखने के लिए दवा लेने की सलाह दे ​​सकता है।
  • गुर्दे की पुरानी बीमारी। आपका डॉक्टर आपके रक्तचाप या रक्त में शर्करा के उच्च स्तर को नियंत्रित करने के लिए दवाइयाँ लेने की सलाह दे सकता है।
  • परिधीय धमनी रोग। प्रभावित धमनियों को अनवरोधित करने के लिए आपका डॉक्टर सर्जरी की सलाह दे सकता है।

एक आपातकालीन कार्य योजना

ध्यान रखें कि आपके या आपके परिवार में किसी को दिल का दौरा पड़ने की स्तिथि में आपके पास आपातकालीन कार्यवाही योजना हो। यदि आपको इसके उच्च जोखिम हैं, या पहले भी आपको दिल का दौरा पड़ा है तो यह बहुत ज़रुरी है।

आपके द्वारा ली जा रही दवाईओं, जिन दवाईओं से आपको एलर्जी है, आपको स्वस्थ सुविधा प्रदान करने वाले के फोन नंबर (दफ्तर के घंटों के दौरान और बाद में), और किसी मित्र या रिश्तेदार के लिए संपर्क जानकारी के लिए एक सूची लिखें। आपात चिकित्सा को साझा करने के लिए सूची को सुविधाजनक जगह में रखें।

दिल के दौरे के लक्षणों और संकेतों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। जब आप डॉक्टर से संपर्क करें तब आपको यह पूछना चाहिए कि चिकित्सा सहायता के इंतजार के दौरान आप क्या कदम उठा सकते हैं।

संकेत, लक्षण और समस्याएं

सभी दिल के दौरे अचानक, छाती के दर्द से शुरू नहीं होते हैं जैसा अक्सर टीवी या फिल्मों में दिखाया जाता है। एक अध्ययन में, उदाहरण के लिए, दिल के दौरे के एक-तिहाई रोगियों को छाती का दर्द नहीं था। उन मरीजों के महिला होने, बड़ी उम्र के होने या मधुमेह से पीड़ित होने की संभावना अधिक थी।

दिल के दौरे के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे में अलग-अलग हो सकते हैं। कुछ लोगों को बहुत ही कम लक्षण हो सकते हैं और यह जानकर हैरान होते हैं कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा है। यदि आपको पहले भी दिल का दौरा पड़ा है, तो आपके लक्षण किसी अन्य के लिए समान नहीं हो सकते हैं। दिल के दौरे के सबसे आम लक्षणों को जानना और इन तथ्यों को भी याद रखना आपके लिए महत्वपूर्ण है:

  • दिल के दौरे धीरे-धीरे शुरू हो सकते हैं और केवल हल्के दर्द या बेचैनी का कारण बन सकते हैं। लक्षण हल्के या ज्यादा गंभीर और अचानक हो सकते हैं। लक्षण कई घंटों में आ और जा सकते हैं।
  • जिन लोगों के रक्त में शक्कर उच्च (मधुमेह) है, उनमें बहुत हल्का या कोई लक्षण नहीं हो सकता है।
  • पुरुषों और महिलाओं दोनों में सबसे आम लक्षण छाती में दर्द या बेचैनी होती है।
  • महिलाओं को सांस की तकलीफ़, जी मचलाना और उल्टी, असामान्य थकान (कभी-कभी कई दिनों के लिए) और पीठ, कंधे और जबड़े में दर्द होने की संभावना अधिक होती है।

कुछ दिल के दौरे बिना किसी लक्षण के या बहुत कम लक्षणों के होते हैं।

सबसे सामान्य लक्षण

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए दिल के दौरे के सबसे सामान्य लक्षण हैं:

  • छाती में दर्द या बेचैनी। अधिकांश दिल के दौरे में सीने के बीच या सीने के बाएं तरफ बेचैनी होती है। बेचैनी आमतौर पर कुछ मिनट से अधिक समय तक होती है या चली जाती है और फिर वापस आ जाती है। यह दबाव, छाती फूल जाना, या दर्द की तरह महसूस होती है। यह दिल की जलन या बदहजमी की तरह भी महसूस हो सकती है।
  • ऊपरी शरीर में बेचैनी। आप एक या दोनों बांहों, पीठ, कंधे, गर्दन, जबड़े, या पेट के ऊपरी भाग (नाभि के ऊपर) में दर्द या बेचैनी महसूस कर सकते हैं।
  • सांस की तकलीफ। यह आपका एकमात्र लक्षण हो सकता है, या यह छाती के दर्द या बेचैनी से पहले या उसके साथ हो सकता है। यह तब हो सकता है जब आप आराम कर रहे हों या शारीरिक गतिविधि कर रहे हों।

छाती के दर्द (angina) के लक्षण दिल के दौरे के लक्षणों के जैसे हो सकते हैं। एंजाइना छाती का दर्द है जो उन लोगों में होता है जिनको कोरोनरी हृदय रोग होता है, आमतौर पर जब वे सक्रिय होते हैं। छाती का दर्द आमतौर पर केवल कुछ ही मिनट तक रहता है और आराम से चला जाता है।

छाती में दर्द या बेचैनी जो नहीं जाती है या इसके सामान्य स्वरूप से बदलती है (उदाहरण के लिए, अधिक बार होता है या जब आप आराम कर रहे होते हैं) दिल के दौरे का संकेत हो सकता है।

सभी छाती के दर्द को डॉक्टर द्वारा जांच करवानी चाहिए।

अन्य सामान्य संकेत और लक्षण

दिल के दौरे के इन अन्य संभावित लक्षणों पर ध्यान दें:

  • पसीने से अत्यधिक भीग जाना
  • किसी भी कारण से असामान्य रूप से थक जाना, कभी-कभी काफी दिनों के लिए (विशेष रूप से यदि आप एक महिला हैं)
  • जी मिचलाना और उल्टी
  • हल्का सिरदर्द या अचानक चक्कर आना
  • अचानक से कोई भी, नए लक्षण या लक्षणों के बदलाव जो आपको पहले से ही हो चुके हैं (उदाहरण के लिए, यदि आपके लक्षण बढ़ जाते हैं या सामान्य से अधिक लंबे समय तक चलते हैं)

हर किसी के दिल में दौरा होने पर सामान्य लक्षण नहीं होते हैं। यदि आपको पहले भी दिल का दौरा पड़ा है, तो आपके लक्षण किसी अन्य व्यक्ति के समान नहीं हो सकते हैं। हालांकि, कुछ लोगों में लक्षणों का एक स्वरूप हो सकता है जो बार-बार होते हैं।

आपके जितने अधिक लक्षण और संकेत होंगें, उतनी ही अधिक संभावना है कि आपको दिल का दौरा पड़ रहा है।

तुरंत की गई कार्रवाई आपके जीवन को बचा सकती है: डॉक्टर से संपर्क करें

दिल के दौरे के लक्षण और संकेत अचानक हो सकते हैं। हालांकि, वे धीरे-धीरे पैदा हो सकते हैं - कभी-कभी दिल के दौरे घंटे, दिन या हफ्तों के अंदर हो सकते हैं।

जब भी आपको लगता है कि आपको दिल का दौरा पड़ सकता है या उसके संकेत हो सकते हैं, तो इसे अनदेखा न करें या मदद के लिए शर्मिंदगी महसूस न करें। आपातकालीन चिकित्सा देखभाल के लिए डॉक्टर से संपर्क करें, भले ही आप निश्चित न हों कि आपको दिल का दौरा पड़ रहा है या नहीं। उसकी वजह ये है:

  • कार्य तेजी से आपके जीवन को बचा सकता है।
  • एम्बुलेंस अस्पताल पहुंचने का सबसे अच्छा और सुरक्षित तरीका है। आपातकालीन चिकित्सा सेवा कर्मचारी यह जांच सकते हैं कि आप कैसे हैं और जीवन बचाने वाली दवाइयाँ और अन्य उपचार तुरंत शुरू करें। जो लोग एम्बुलेंस से आते हैं उन्हें अक्सर अस्पताल में तेजी से इलाज मिलता है।
  • डॉक्टर आपको सलाह दे सकता है। यदि आपको एलर्जी नहीं है, तो आपको एस्पिरिन को पीसने या चबाने के लिए कहा जा सकता है, जब तक कि आपके लिए कोई चिकित्सीय कारण न हो, इसे न लें। दिल के दौरे के दौरान ली गई एस्पिरिन आपके दिल के नुकसान की सीमा को कम कर सकती है और आपका जीवन बचा सकती है।

हर मिनट मायने रखता है। कभी भी एस्पिरिन लेने के लिए डॉक्टर को संपर्क करने में देरी न करें या ऐसा कुछ भी करें जो आपको लगता है कि मदद कर सकता है।

आपका डॉक्टर आपके संकेतों और लक्षणों, आपके चिकित्सा और स्वास्थ्य से संबंधित सारी पुरानी जानकारी, और परीक्षण परिणामों के आधार पर दिल के दौरे का निदान करेगा।

नैदानिक परीक्षण

ई के जी - एलेक्ट्रोकार्डिओग्राम (EKG - Electrocardiogram)

यह साधारण, दर्द रहित परीक्षण है जो दिल की विद्युत गतिविधि का पता लगाता है और उसे रिकॉर्ड करता है। परीक्षण से पता चलता है कि दिल कितनी तेजी से धड़क रहा है और इसकी लय (स्थिर या अनियमित) कितनी तेज़ है। यह विद्युत संकेतों की ताकत और समय को भी रिकॉर्ड कर सकता है क्योंकि वे दिल के प्रत्येक हिस्से से जाते हैं।

यह कोरोनरी हृदय रोग और पिछले या वर्तमान दिल के दौरे के संकेतों के कारण दिल की क्षति के संकेत दिखा सकता है।

रक्त परीक्षण

दिल के दौरे के दौरान, दिल की मांसपेशियों की कोशिकाएं मर जाती हैं और रक्त प्रवाह में प्रोटीन को छोड़ देती हैं। रक्त परीक्षण रक्त प्रवाह में इन प्रोटीन की मात्रा को माप सकता है। इन प्रोटीन के सामान्य स्तर से अधिक होने पर दिल का दौरा पड़ सकता है।

आम तौर पर इस्तेमाल होने वाली रक्त परीक्षण में ट्रोपोनिन परीक्षण, सी के या सी के-एम बी परीक्षण, और सीरम मायोग्लोबिन परीक्षण शामिल हैं। रक्त परीक्षण अक्सर समय के साथ बदलने की जांच के लिए दोहराया जाता है।

कोरोनरी एंजियोग्राफी (Coronary Angiography)

कोरोनरी एंजियोग्राफी एक परीक्षण है जो आपकी कोरोनरी धमनियों के अंदर दिखाने के लिए रंजक और विशेष एक्स-रे का उपयोग करता है। कोरोनरी धमनी में रूकावट खोजने में मदद के लिए यह परीक्षण अक्सर दिल के दौरे के दौरान किया जाता है।

आपकी कोरोनरी धमनियों में रंजक प्राप्त करने के लिए, आपका डॉक्टर कार्डियक कैथीटेराइजेशन (Cardiac Catheterization) नामक प्रक्रिया का उपयोग करेंगे।

कैथीटर नामक पतली, फ्लेक्सिबल नली को आपकी बांह, पेट और जांघ के बीच का भाग (ऊपरी जांघ), या गर्दन में रक्त वाहिका में डाल दिया जाता है। नली को आपकी कोरोनरी धमनियों में डाला जाता है, और रंजक को आपके रक्त प्रवाह में छोड़ दिया जाता है।

विशेष एक्स-रे को लिया जाता है जबकि रंजक कोरोनरी धमनियों के माध्यम से बहती है। रंजक आपके डॉक्टर को दिल और रक्त वाहिकाओं के माध्यम से रक्त के प्रवाह का अध्ययन करने देता है।

अगर आपके डॉक्टर को रुकावट मिलती है, तो वह त्वचीय कोरोनरी व्यवधान (percutaneous coronary intervention) की सलाह दे सकता है, जिसे कभी-कभी कोरोनरी एंजियोप्लास्टी (coronary angioplasty) कहा जाता है। यह प्रक्रिया रुकी हुई धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह को सुधारने में मदद कर सकती है। कभी-कभी प्रक्रिया के बाद रुकावटों को रोकने में मदद के लिए धमनी में एक छोटी जाली नली को रखा जाता है।

इलाज

दिल के दौरे के लिए जल्दी उपचार हृदय की मांसपेशियों के नुकसान को रोक या सीमित कर सकता है। दिल के दौरे के पहले लक्षणों पर ही डॉक्टर को बुलाकर, जल्दी से कार्य करना, आपके जीवन को बचा सकता है। चिकित्सा कर्मचारी अस्पताल पहुंचने से पहले ही निदान और उपचार शुरू कर सकते हैं।

तुरंत इलाज

निदान की पुष्टि होने से पहले, कुछ उपचार आमतौर पर तुरंत शुरू हो जाते हैं यदि दिल का दौरा पड़ता है। इसमें शामिल हैं:

  • आगे होने वाले रक्त के थक्के को रोकने के लिए एस्पिरिन का प्रयोग
  • नाइट्रोग्लिसरीन आपके दिल के कार्यभाग को कम करने और कोरोनरी धमनियों के माध्यम से रक्त प्रवाह में सुधार करने के लिए प्रयोग होता है
  • ऑक्सीजन चिकित्सा
  • छाती के दर्द के लिए उपचार

अगर एक बार दिल के दौरे के निदान की पुष्टि या दृढ़ता से संदेह हो जाता है, तो डॉक्टर दिल की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिकाओं के माध्यम से रक्त प्रवाह में सुधार करने के लिए तुरंत उपचार शुरू करते हैं। खून को जमने से रोकने वाली दवाइयां और त्वचीय कोरोनरी व्यवधान, जिसे कोरोनरी एंजियोप्लास्टी भी कहा जाता है, रुकी हुई कोरोनरी धमनियों को खोलने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रक्रिया को कहते हैं।

खून को जमने से रोकने वाली दवाईयां

थ्रॉमबोलाइटिक दवाईओं का उपयोग कोरोनरी धमनियों में रूकावट करने वाले रक्त के थक्के को खत्म करने के लिए प्रयोग किया जाता है। सबसे अच्छा काम करने के लिए इन दवाइयों को दिल के दौरे के लक्षणों की शुरुआत के कई घंटों के अंदर दिया जाना चाहिए। आदर्श रूप से, दवा जितनी जल्दी हो सके दी जानी चाहिए।

त्वचीय कोरोनरी व्यवधान (Percutaneous Coronary Intervention)

त्वचीय कोरोनरी व्यवधान गैर शल्य-चिकित्सा प्रक्रिया है जो रूकावट या संकुचित कोरोनरी धमनी को खोलती है। गुब्बारे या अंत में अन्य डिवाइस के साथ पतली, फ्लेक्सिबल नली (कैथेटर) रक्त वाहिका के माध्यम से डाली जाती है, आमतौर पर संकुचित या रुकी हई कोरोनरी धमनी के लिए पेट और जांघ के बीच के भाग (ऊपरी जांघ) में। एक बार जगह में, कैथेटर की नोक पर स्थित गुब्बारा धमनियों की दीवार के विरुद प्लाक और संबंधित थक्के को दबाकर फुलाया जाता है। यह धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह को वापिस लेकर आता है। प्रक्रिया के दौरान, डॉक्टर धमनी में स्टेंट नामक छोटी जाली वाली नली डाल सकता है। यह प्रक्रिया महीनों या वर्षों में, धमनी में रूकावट को रोकने के लिए रक्त वाहिका को खोलने में मदद करती है।

दिल के दौरे के लिए अन्य उपचार

दिल के दौरे के लिए अन्य उपचार में शामिल है:

दवाईयां

आपका डॉक्टर निम्नलिखित दवाइयों में से एक या अधिक दवाई लेने की सलाह दे सकता है।

  • एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग-एंजाइम अवरोधक (ACE inhibitors)। यह रक्तचाप कम करता है और आपके दिल से तनाव को कम करता है। वह दिल की मांसपेशियों को और कमजोर पड़ने में भी धीमी गति से मदद करते हैं।
  • खून को जमने से रोकने वाली दवाइयां। ये दवाइयां प्लेटलेट को एक साथ चिपकने और अनचाहे रक्त के थक्के बनाने से रोकती हैं। उदाहरण के लिए खून को जमने से रोकने वाली दवाइयां जिसमें एस्पिरिन और क्लॉपिडोग्रेल शामिल है।
  • खून में बनने वाले थक्कों को रोकने वाली दवाइयां (Anticoagulants)। खून में बनने वाले थक्कों को रोकने वाली और रक्त को पतला करने वाली रक्त के थक्के को आपकी धमनियों में बनाने से रोकती है।
  • बीटा अवरोधक। बीटा अवरोधक आपके दिल के कार्यभार को कम करते हैं। छाती के दर्द और बेचैनी से छुटकारा पाने के लिए और अन्य दिल के दौरे को रोकने में मदद के लिए इन दवाइयों का प्रयोग किया जाता है। बीटा अवरोधक का उपयोग एरिथमिया (अनियमित दिल की धड़कन) के इलाज के लिए भी किया जाता है।
  • स्टेटिन दवाइयां। स्टेटिन आपके रक्त में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित या कम करती है। अपने रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके, आप अन्य दिल के दौरे या स्ट्रोक होने की संभावना कम कर सकते हैं।

दर्द और चिंता से छुटकारा पाने के लिए आपको दवाईयां भी दी जा सकती हैं, और एराइथेमिया का इलाज कर सकते हैं। जैसा कि आपका डॉक्टर आपको सलाह देता है, सभी दवाईयां नियमित रूप से लें। अपनी दवा की मात्रा को न बदलें या खुराक न छोड़ दें जब तक कि आपका डॉक्टर आपको न कहे।

चिकित्सा प्रक्रियाएं

हृदय धमनी बाह्य-पथ सर्जरी को भी दिल के दौरे के इलाज के लिए उपयोग किया जा सकता है। इस सर्जरी के दौरान, सर्जन आपके शरीर से स्वस्थ धमनी या नस को हटा देता है। कोरोनरी धमनी रुके हुए हिस्से को बाह्य-पथ करने के लिए धमनी या नस को जोड़ा जाता है, या तैयार किया जाता है। गठित धमनी या नस कोरोनरी धमनी के रुके हुए हिस्से को बाह्य-पथ (यानी, चारों ओर जाता है) करता है। यह दिल की मांसपेशियों में रक्त प्रवाह के लिए एक नया रास्ता प्रदान करता है।

स्वस्थ दिल की जीवनशैली में परिवर्तन

दिल के दौरे के लिए उपचार में आमतौर पर स्वस्थ दिल की जीवनशैली में बदलाव शामिल होते हैं। आपका डॉक्टर सलाह भी दे सकता है:

इन कदमों से आप दिल का दौरा होने की संभावना कम को कर सकते हैं।

हृदय संबंधी पुनर्वास

आपके डॉक्टर दिल के दौरे को ठीक होने में मदद करने के लिए और दोबारा दिल का दौरा होने से रोकने में मदद के लिए हृदय संबंधी पुनर्वास की सलाह दे सकते हैं। लगभग हर कोई जिनको दिल का दौरा पड़ा है उसे पुनर्वास से फायदा हो सकता है। चिकित्सा की दृष्टि से यह एक देखरेख कार्यक्रम है जो दिल की समस्याओं वाले लोगों के स्वास्थ्य और हाल चाल में सुधार करने में मदद कर सकता है।

हृदय संबंधी पुनर्वास टीम में डॉक्टर, नर्स, व्यायाम विशेषज्ञ, शारीरिक और व्यावसायिक चिकित्सक, आहार विशेषज्ञ या पोषण विशेषज्ञ, और मनोवैज्ञानिक या अन्य मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ शामिल हो सकते हैं।

पुनर्वास के दो भाग हैं:

  • शिक्षा, परामर्श, और ट्रेनिंग। पुनर्वास का यह हिस्सा आपको हृदय की स्थिति को समझने में मदद करता है और आने वाले समय में हृदय की समस्याओं के लिए आपके जोखिम को कम करने के तरीकों का पता लगाता है। पुनर्वास टीम आपको नई जीवनशैली में समायोजन के तनाव और भविष्य के बारे में अपने डर से निपटने के तनाव से छुटकारा पाने का तरीका सीखने में मदद करेगी।
  • व्यायाम ट्रेनिंग। यह हिस्सा आपको सुरक्षित रूप से व्यायाम करने, अपनी मांसपेशियों को मजबूत करने और अपनी सहनशक्ति में सुधार करने में मदद करता है। आपकी व्यायाम योजना आपकी व्यक्तिगत योग्यता, जरूरतों और रूचियों पर आधारित होगी।

दिल के दौरे के बाद जीवन

बहुत से लोग दिल के दौरे से बच जाते हैं, सक्रिय रहते हैं, और सारा जीवन जीते हैं। अगर आपको जल्दी से मदद मिलती है, तो उपचार आपके दिल की मांसपेशियों के नुकसान को सीमित कर सकता है। दिल की कम क्षति दिल के दौरे के बाद जीवन की बेहतर गुणवत्ता के लिए आपकी संभावनाओं में सुधार करता है।

चिकित्सा अनुवर्ती

दिल के दौरे के बाद, आपको कोरोनरी हृदय रोग के इलाज की जरुरत होगी। यह अन्य दिल के दौरे को रोकने में मदद करेगा। आपका डॉक्टर सलाह दे सकता है:

  • रहन-सहन में बदलाव, जैसे स्वस्थ आहार का पालन करना, शारीरिक रूप से सक्रिय होना, स्वस्थ वजन बनाए रखना, और धूम्रपान छोड़ना।
  • छाती में दर्द या बेचैनी, रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, और आपके दिल पर कार्यभार को नियंत्रित करने के लिए दवाइयां। इनमें से कुछ दवाएं आपको दोबारा से होने वाले दिल के दौरे को रोकने में मदद कर सकती हैं।
  • खून को जमने से रोकने वाली दवाइयां जैसे एस्पिरिन, जो आपका डॉक्टर आपको अन्य दिल का दौरा रोकने में मदद करने के लिए सलाह दे सकता है।
  • हृदय संबंधी पुनर्वास कार्यक्रम

अगर आपको अपनी दवाइयां प्राप्त और हृदय संबंधी पुनर्वास कार्यक्रम करना मुश्किल लगता है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। दवाइयां या कार्यक्रम को न रोकें क्योंकि यह आपको दिल के दौरे को रोकने में मदद कर सकता है।

सामान्य गतिविधियों पर पुनः लौटना

दिल के दौरे के बाद, ज्यादातर लोग जिन्हें छाती में दर्द या बेचैनी या अन्य समस्याएं नहीं होती हैं, वे कुछ हफ्तों के भीतर सुरक्षित रूप से अपनी सामान्य गतिविधियों में वापस आ सकते हैं। अधिकांश लोग तुरंत चलना भी शुरू कर सकते हैं।

अधिकांश रोगी यौन गतिविधि भी कुछ हफ्तों के भीतर शुरू कर सकते हैं। अपनी सामान्य दिनचर्या पर लौटने के लिए अपने डॉक्टर से एक सुरक्षित कार्यक्रम बनाने के बारे में बात करें।

ज्यादातर मरीज़ जिन्हे छाती में दर्द या असुविधा या अन्य अक्षम समस्याएं नहीं हैं, वो आमतौर पर एक हफ्ते के भीतर ड्राइविंग शुरू कर सकते हैं। जिन लोगों में कुछ समस्याएं हैं, उन्हें तब तक ड्राइव नहीं करना चाहिए जब तक उनके लक्षण कुछ हफ्तों में ठीक न हो जाएं।

दिल के दौरे के बाद चिंता और अवसाद

दिल के दौरे के बाद, कई लोग दोबारा दिल का दौरा आने की चिंता करते रहते हैं। कभी-कभी वे उदास महसूस करते हैं और रहन सहन के नए बदलावों में समायोजन करने में परेशानी होती है।

आप कैसा महसूस करते हैं इस बारे में अपने स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञों से बात करें। एक पेशेवर परामर्शदाता से बात करने से भी आपको मदद मिल सकती है। यदि आप बहुत उदास हैं, तो आपका डॉक्टर दवाइयां या अन्य उपचारों की सलाह दे सकता है जो आपकी जीवन जीने की गुणवत्ता में सुधार कर सकती हैं।

मरीज़ समर्थन समूह में शामिल होने से दिल के दौरे के बाद आपको जीवन को समायोजित करने में मदद मिल सकती है। आप देख सकते हैं कि अन्य लोगों के पास समान लक्षण हैं जो उनसे लड़ रहे हैं। स्थानीय सहायता समूहों या क्षेत्रीय चिकित्सा केंद्र के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

परिवार और दोस्तों के साथ से भी तनाव और चिंता से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। अपने प्रियजनों को यह बताएं कि आप कैसा महसूस करते हैं और वे आपकी मदद करने के लिए क्या कर सकते हैं।

फिर से दिल का दौरा आने का ख़तरा

एक बार दिल का दौरा पड़ने के बाद आप में फिर से दिल का दौरा आने का अधिक जोखिम रहता है। छाती का दर्द और दिल के दौरे के बीच का अंतर जानना महत्वपूर्ण है। एंजाइना छाती का दर्द है जो ह्रदय-धमनी रोग वाले लोगों में होता है।

छाती का दर्द आम तौर पर शारीरिक परिश्रम के बाद होता है और कुछ मिनटों में चला जाता है जब आप आराम करते हैं या निर्देशानुसार दवा लेते हैं।

आमतौर पर दिल के दौरे का दर्द छाती के दर्द से अधिक गंभीर होता है। दिल के दौरे का दर्द आराम करने तथा दवा लेने से दूर नहीं होता है।

यदि आपको नहीं पता कि आपकी छाती का दर्द, एंजाइना या दिल के दौरे के कारण है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

दूसरे दिल के दौरे के लक्षण पहले दिल के दौरे के समान नहीं हो सकते हैं। यदि आपको कुछ संदेह है तो जोखिम न लें। अगर आप या किसी और में दिल के दौरे के लक्षण हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

दुर्भाग्यवश, अधिकांश दिल के दौरे से पीड़ित लोगों को चिकित्सीय सहायता के लिए लक्षण शुरू होने के 2 घंटे या उससे अधिक समय तक प्रतीक्षा करनी पड़ती है। इस देरी के परिणामस्वरूप स्थायी हृदय क्षति या मृत्यु हो सकती है।


साइन अप