Get a month of TabletWise Pro for free! Click here to redeem 
TabletWise.com
 

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया / Hyperprolactinemia in Hindi

रक्त में असामान्य रूप से उच्च स्तर का प्रोलैक्टिन

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के लक्षण

निम्नलिखित लक्षणों से हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया का संकेत मिलता है:
  • मासिक धर्म में कमी
  • amenorrhoea
  • कामेच्छा का नुकसान
  • ब्रेस्ट दर्द
  • योनि सूखापन
  • यौन अक्षमता
  • पुरुषों में gynecomastia
  • सीधा दोषपूर्ण
यह संभव है कि हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया कोई शारीरिक लक्षण नहीं दिखाता है और अभी भी एक रोगी में मौजूद है।

Get TabletWise Pro

Thousands of Classes to Help You Become a Better You.

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के सामान्य कारण

निम्नलिखित हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के सबसे सामान्य कारण हैं:
  • पिट्यूटरी डंठल का संपीड़न
  • डोपामाइन के स्तर को कम किया
  • प्रोलैक्टिनोमा से अतिरिक्त उत्पादन

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के जोखिम कारक

निम्नलिखित कारकों में हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया की संभावना बढ़ सकती है:
  • गर्भावस्था
  • दुद्ध निकालना
  • सीने की दीवार उत्तेजना
  • तनाव
  • हाइपोथैलेमिक-पिट्यूटरी डंठल क्षति
  • Prolactinoma
  • एक्रोमिगेली
  • लारोन सिंड्रोम
  • चिरकालिक गुर्दा निष्क्रियता
  • हाइपोथायरायडिज्म
  • सिरोसिस
  • pseudocyesis
  • मिरगी के दौरे

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया से निवारण

हाँ, हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया को रोकना संभव है निम्न कार्य करके निवारण संभव हो सकता है:
  • हर दो महीनों के लिए गर्भवती महिलाओं का ध्यानपूर्वक मूल्यांकन किया जाना चाहिए

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया की उपस्थिति

मामलों की संख्या

हर साल दुनिया भर में देखे गये हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के मामलों की संख्या निम्नलिखित हैं:
  • बहुत आम> 10 लाख मामलों

सामान्य आयु समूह

सबसे अधिक हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया निम्न आयु वर्ग में होता है:
  • Aged between 20-35 years

सामान्य लिंग

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया किसी भी लिंग में हो सकता है।

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के निदान के लिए प्रयोगशाला परीक्षण और प्रक्रियाएं

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया का पता लगाने के लिए निम्न प्रयोगशाला परीक्षण और प्रक्रियाओं का उपयोग किया जाता है:
  • रक्त परीक्षण: पुरुषों में 25 एनजी / मिलीलीटर से ऊपर 20 एनजी / मिलीलीटर के प्रोलैक्टिन स्तर उपवास और हाइपरप्रोलैक्टिनिया
  • एक्स-रे: पिट्यूटरी के आस-पास की हड्डियों की रेडियोग्राफी एक बड़े मैक्रो-एडेनोमा की उपस्थिति को प्रकट करती है
  • एमआरआई (चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग): पिट्यूटरी ट्यूमर का पता लगाने और उनके आकार का निर्धारण करने के लिए

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया की समस्याएं अगर इलाज न हो

हाँ, हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया जटिलताओं का कारण बनता है यदि इसका इलाज नहीं किया जाता है नीचे दी गयी सूची उन जटिलताओं और समस्याओं की है जो हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया को अनुपचारित छोड़ने से पैदा हो सकती है:
  • galactorrhoea
  • प्रजनन कार्य में हानि
  • ऑस्टियोपोरोसिस
  • सीधा दोषपूर्ण
  • बांझपन
  • गाइनेकोमैस्टिया

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के उपचार के लिए प्रक्रियाएँ

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के इलाज के लिए निम्नलिखित प्रक्रियाओं का उपयोग किया जाता है:
  • सर्जरी: प्रोलैक्टिन अतिरिक्त से जुड़े ट्यूमर को हटाने के लिए

हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के उपचार के लिए समय

नीचे एक विशेषज्ञ पर्यवेक्षण के अंतर्गत हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के ठीक से इलाज के लिए विशेष समय अवधि है, जबकि प्रत्येक रोगी के इलाज की समय अवधि भिन्न हो सकती है:
  • रोग का इलाज नहीं किया जा सकता है लेकिन केवल बनाए रखा जाता है या प्रभाव कम होता है

संबंधित विषय

अंतिम अद्यतन तिथि

यह पृष्ठ पिछले 2/04/2019 पर अद्यतन किया गया था।
यह पृष्ठ हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया के लिए जानकारी प्रदान करता है।

संबंधित विषय

एक्रोमिगेली

साइन अप