Get a month of TabletWise Pro for free! Click here to redeem 
Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 

गर्भधारण करने से पहले का स्वास्थ्य

स्वास्थ्य    गर्भावस्था    गर्भधारण करने से पहले का स्वास्थ्य

यह एक महिला के गर्भवती होने से पहले का स्वास्थ्य होता है। इसका मतलब यह है कि किसी महिला के गर्भवती होने पर उसके स्वास्थ्य की स्थिति और खतरे पैदा करने वाले कारण, उसको और उसके अजन्मे शिशु को कैसे प्रभावित करेंगे। जैसे कि, कुछ खाद्य पदार्थ, आदतें, और दवाएँ आपके गर्भधारण करने से पहले ही आपके होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं। कुछ स्वास्थ्य समस्याएं जैसे कि मधुमेह भी गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती हैं।

गर्भधारण करने से पहले का स्वास्थ्य क्यों मायने रखता है

हर महिला को अपने स्वास्थ्य के बारे में सोचना चाहिए चाहे वह माँ बनने की योजना बना रही हो या नहीं। जिन गर्भावस्थाओं की पहले से योजना नहीं बनाई जाती उनमें समय से पहले जन्मे बच्चे और कम वजन वाले बच्चे के पैदा होने का खतरा ज़्यादा होता है। एक अन्य कारण यह भी है कि दवा और प्रसव से पहले की देखभाल में तरक्की के बावजूद भी बच्चे समय से जल्दी पैदा हो रहे हैं। शोधकर्ता यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि बच्चों का समय से पहले पैदा होना कैसे रोका या कम किया जा सकता है। लेकिन विशेषज्ञ यह ज़रूर मानते हैं कि गर्भवती होने से पहले महिलाओं को स्वस्थ और तंदुरुस्त होना चाहिए। गर्भावस्था से पहले स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं और खतरों पर कदम उठाने से आपको या आपके बच्चे को प्रभावित करने वाली समस्याओं को रोका जा सकता है।

अपने गर्भधारण करने से पहले के स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए पांच सबसे महत्वपूर्ण चीजें

यौन रूप से सक्रिय होने से पहले ही (कम से कम तीन महीने पहले) महिलाओं और पुरुषों को गर्भावस्था के लिए तैयार रहना चाहिए। कुछ कदम तो इससे भी पहले उठा लेने चाहिए जैसे धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ वजन तक पहुंचना या आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली दवाओं को नियंत्रित करना। गर्भधारण करने से पहले के स्वास्थ्य के लिए पांच सबसे महत्वपूर्ण चीजें जो आप कर सकते हैं:

  1. यदि आप माँ बनने के बारे में सोच रहे हैं या इसके लिए सक्षम हैं तो हर दिन 400 से 800 माइक्रोग्राम (0.4 से 0.8 मिलीग्राम) फोलिक एसिड (Folic Acid) लें जिससे दिमागी और रीढ़ की हड्डी के जन्म दोषों जैसे की स्पाइना बिफिडा (spina bifida) के होने का खतरा कम होगा। सभी महिलाओं को हर दिन फोलिक एसिड लेने की ज़रूरत होती है। अपनी फोलिक एसिड की जरूरतों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। कुछ डॉक्टर प्रसव से पहले दिए जाने वाले कुछ विटामिन लेने की सलाह देते हैं जिनमें उच्च मात्रा में फोलिक एसिड मौजूद होता है।
  2. धूम्रपान करना और शराब पीना बंद करें।
  3. यदि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो ध्यान रखें कि वह नियंत्रण में है। कुछ स्वास्थ्य समस्याएं जो गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती हैं या उससे प्रभावित हो सकती हैं उनमें दमा, मधुमेह, मौखिक स्वास्थ्य, मोटापा या मिर्गी शामिल हैं।
  4. यदि आप डॉक्टर की सलाह से या उसके बिना किसी दवाओं का उपयोग कर रहे हैं तो इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। इनमें आहार पूरक या जड़ी-बूटी संबंधी पूरक (dietary or herbal supplements) शामिल होते हैं। यह जरूर ध्यान दें कि आपका टीकाकरण सबसे नए प्रकार का होना चाहिए।
  5. जहरीले पदार्थों के संपर्क में आने से बचें जिनके कारण संक्रमण हो सकता है। रासायनिक पदार्थों और बिल्ली, चूहे आदि के मल से दूर रहें।

गर्भवती होने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें

गर्भधारण करने से पहले की गई देखभाल आपके गर्भवती होने, स्वस्थ गर्भावस्था होने और स्वस्थ बच्चा होने की संभावनाओं को बढ़ा सकती है। यदि आप यौन रूप से सक्रिय हैं, तो अपने डॉक्टर से गर्भधारण करने से पहले के स्वास्थ्य के बारे में बातचीत करें। गर्भवती होने से कम से कम तीन महीने पहले ही अपने स्वास्थ्य की देखभाल शुरु कर देनी चाहिए। लेकिन कुछ महिलाओं को अपने शरीर को गर्भावस्था के लिए तैयार करने के लिए ज्यादा समय की जरूरत होती है। डॉक्टर से अपने साथी के स्वास्थ्य के बारे में भी जरूर बात करें। अपने डॉक्टर से निम्नलिखित बातों के बारे में पूछें:

  • परिवार नियोजन और गर्भ-निरोध।
  • फोलिक एसिड (Folic Acid) लेने के बारे में।
  • आपके लिए आवश्यक टीकाकरण और परीक्षण जैसे कि पैप टेस्ट (Pap test) और एचआईवी (HIV) सहित अन्य यौन संचारित रोगों (STIs) के लिए परीक्षण।
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप, थाइरॉयड रोग, मोटापा, विषाद (depression), भोजन-संबंधी विकार, और दमा जैसी स्वास्थ्य समस्याओं को नियंत्रित करना। यह पता लगाएं कि यह स्वास्थ्य समस्याएँ आपकी गर्भावस्था पर कैसे प्रभाव डालती हैं या उससे कैसे प्रभावित होती हैं।
  • आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली दवाएं जिनमें डॉक्टर की सलाह से या उसके बिना ली जाने वाली और जड़ी-बूटी वाली दवाइयां और आहार पूरक शामिल होते हैं।
  • आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार लाने के तरीके जैसे एक स्वस्थ वजन तक पहुंचना, सही भोजन चुनना, शारीरिक रूप से सक्रिय होना, अपने दांतों और मसूड़ों की देखभाल करना, तनाव को कम करना, धूम्रपान छोड़ना और शराब से परहेज करना आदि।
  • बीमारी से कैसे बचें।
  • आपके काम की जगह या घर पर होने वाले ख़तरे जो आपको या आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • आपके या आपके साथी के परिवार में चली आ रही स्वास्थ्य समस्याएं।
  • पहले की गर्भावस्थाओं में हुई समस्याएं जैसे की बच्चे का समय से पहले पैदा होना।
  • आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाली पारिवारिक चिंताएँ जैसे घरेलू हिंसा या सहयोग की कमी।

गर्भावस्था की तैयारी में आपके साथी की भूमिका

आपका साथी गर्भावस्था की तैयारी के हर पहलू में आपको समर्थन देने और प्रोत्साहित करने के लिए काफी मदद कर सकता है। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं:

  • गर्भावस्था के बारे में मिलकर निर्णय लें। जब दोनों साथी गर्भावस्था के लिए तैयार हों, तो महिला को प्रसव से पहले देखरेख की अधिक सम्भावना होती है, इसलिए ख़तरा पैदा करने वाली चीज़ें जैसे धूम्रपान करने और शराब पीने से बचें।
  • यौन संचारित रोग (STI) की जाँच और उपचार कराने से यह सुनिश्चित हो सकता है की कोई रोग-संचार संक्रमण महिला साथी को न हो। ** पुरुष शराब के सेवन को कम करके, धूम्रपान या अवैध नशीली दवाओं के उपयोग को छोड़ कर, स्वस्थ भोजन सेवन करके और तनाव को कम करके स्वयं के प्रजनन स्वास्थ्य और पूरे स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। अध्ययन से यह पता चलता है कि जो लोग बहुत शराब पीते हैं, धूम्रपान करते हैं, या नशीली दवाओं का उपयोग करते हैं उन्हें अपने शुक्राणु (sperm) के साथ समस्या हो सकती है। इस कारण महिलाओं को गर्भवती होने में समस्याएं आ सकती हैं। यदि आपका साथी धूम्रपान करना नहीं छोड़ता है, तो धूम्रपान के हानिकारक प्रभावों से बचने के लिए उसे आपके आस-पास धूम्रपान करने से मना करें।
  • आपके साथी को भी अपने डॉक्टर से स्वयं के स्वास्थ्य, उनके परिवार के स्वास्थ्य से संबंधित सारी पुरानी जानकारी और उनके द्वारा उपयोग की जाने वाली दवाओं के बारे में बात करनी चाहिए।
  • जो लोग रसायनों या अन्य ज़हरीले पदार्थों के साथ काम करते हैं उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए की महिला इन पदार्थों के संपर्क में न आए। उदाहरण के लिए, जो लोग रासायनिक खाद या कीटनाशकों के साथ काम करते हैं उन्हें महिलाओं के पास आने से पहले गंदे कपड़े बदल लेने चाहिए। उन्हें इन कपड़ों को अलग से धोना चाहिए।

आनुवांशिक परामर्श (Genetic counseling)

जिन जीन्स के साथ आपका बच्चा पैदा होता है, वह इन तरीकों से आपके बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं:

  • एकल आनुवंशिक रोग (single gene disorder) केवल एक जीन में उत्पन्न हुई समस्या के कारण होते हैं। जीन में वह जानकारी होती है जो आपके शरीर की कोशिकाओं को कार्य करने के लिए ज़रूरी होती है। एकल आनुवंशिक रोग परिवारों में पीढ़ी दर पीढ़ी चलते हैं। एकल आनुवंशिक रोगों के दो उदाहरण हैं - सिस्टिक फाइब्रोसिस (cystic fibrosis) और सिकल सेल रक्तहीनता (sickle cell anemia)।
  • क्रोमोजोम विकार ( chromosome disorder) तब होते हैं जब पूरा क्रोमोजोम या उसका एक हिस्सा कम या ज़्यादा होता है या किसी क्रोमोजोम का ढांचा सामान्य नहीं होता। क्रोमोजोम वह संरचनाएं होती है जहां जीन स्थित होते हैं। ज़्यादातर क्रोमोजोम विकार जिसमें पुरे क्रोमोजोम शामिल नहीं होते वो परिवारों में पीढ़ी दर पीढ़ी नहीं चलते।

गर्भवती होने से पहले अपने और अपने साथी के परिवार के स्वास्थ्य से संबंधित अन्य सारी जानकारी के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। यह जानकारी आपके डॉक्टर को उन आनुवांशिक खतरों के बारे में पता करने में मदद करेगी जिनकी आप में होने की संभावना है।

आपके अनुवांशिक खतरों के कारणों के आधार पर आपका डॉक्टर आपको अनुवांशिक रोगों के विशेषज्ञ से मिलने का सुझाव दे सकता है। कुछ कारण जिनकी वजह से एक व्यक्ति या जोड़े को आनुवंशिक परामर्श लेने की आवश्यकता पड़ सकती है वह निम्नलिखित हैं:

  • उनके परिवार में पेहले हुई कोई अनुवांशिक स्वास्थ्य समस्या, जन्म दोष, क्रोमोजोम विकार, या कैंसर
  • दो या दो से अधिक बार गर्भपात होना, मरा हुआ बच्चा पैदा होना या पैदा होने के बाद बच्चे का मर जाना
  • अनुवांशिक रोग, जन्म दोष या मानसिक असमर्थता वाला बच्चा
  • एक महिला जो 35 वर्ष या उससे ज़्यादा की उम्र में गर्भवती होती है
  • अगर परीक्षण के परिणाम से यह पता चले की कोई अनुवांशिक स्वास्थ्य समस्या मौजूद है
  • किसी के जातीय आधार के कारण आनुवांशिक रोग होने या संचारित करने के खतरे का बढ़ जाना
  • खून के रिश्ते से जुड़े लोग जो एक साथ बच्चे पैदा करना चाहते हैं

परामर्श के दौरान, अनुवांशिक रोगों का विशेषज्ञ अनुवांशिक खतरों पर बात करने या किसी अनुवांशिक स्वास्थ्य समस्या का पता लगाने के लिए एक व्यक्ति या जोड़े से मिलता है। कभी-कभी, एक जोड़ा आनुवंशिक परीक्षण करवाने की भी सोचता है। इन परीक्षणों से अनुवांशिक रोगों के होने या संचारित करने की संभवाना के बारे में पता चलता है। यह विशेषज्ञ जोड़ों को यह तय करने में मदद करता है कि आनुवांशिक परीक्षण उनके लिए सही विकल्प है या नहीं।

संबंधित विषय


साइन अप