Pharmacy Website
Clinic Website
TabletWise.com TabletWise.com
 

इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह

स्वास्थ्य    Diabetes    इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह

इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह तब होता है जब आपका शरीर इंसुलिन का ठीक तरीके से उपयोग नही कर पाता।

इंसुलिन क्या है?

इंसुलिन अग्न्याशय द्वारा बनाया गया हार्मोन है जो रक्त में ग्लूकोज़़ को मांसपेशियों, वसा और जिगर में कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करता है, जहां इसका उपयोग ऊर्जा के रूप में किया जाता है। ग्लूकोज़़ आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से प्राप्त होता है। जिगर भी आवश्यकता के समय में ग्लूकोज़़ बनाता है, जैसे कि जब आप खाली पेट रह रहे हों। भोजन के बाद जब रक्त में ग्लूकोज़़ के स्तर को बढ़ता है, तो अग्न्याशय द्वारा रक्त में इंसुलिन मुक्त किया जाता है। उसके बाद इंसुलिन रक्त में ग्लूकोज़़ को कम कर उसे सामान्य कर देता है।

इंसुलिन प्रतिरोध क्या है?

जब आपकी मांसपेशियाँ, वसा व यकृत कोशिकाएं इंसुलिन के लिए सही प्रतिक्रिया नहीं कर पातीं तथा आसानी से रक्त से ग्लूकोज़़ नहीं ले पातीं, तब इस स्थिति को इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है। जिसके फलस्वरूप, आपका अग्न्याशय ग्लूकोज़़ को आपकी कोशिकाओं में प्रवेश करवाने के लिए और अधिक इंसुलिन बनाने लगता है। आपका रक्त ग्लूकोज़़ तब तक सामान्य रहेगा, जब तक आपका अग्न्याशय आपकी कोशिकाओं की इस कमजोर प्रतिक्रिया को कम करने के लिए पर्याप्त इंसुलिन बनता रहेगा।

पूर्व मधुमेह क्या है?

पूर्व मधुमेह का मतलब है कि आपके रक्त में ग्लूकोज़़ का स्तर सामान्य से अधिक है, पर मधुमेह के रूप में निदान करने के लिए पर्याप्त नहीं है। पूर्व मधुमेह आमतौर पर उन लोगों में होता है जिनके पास पहले से ही कुछ इंसुलिन प्रतिरोध होता है या अग्न्याशय (एक प्रकार की पाचक ग्रंथि) में बीटा कोशिकाएं सामान्य श्रेणी में आपके रक्त में ग्लूकोज़़ रखने के लिए पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना रही हों। पर्याप्त इंसुलिन के बिना, अतिरिक्त ग्लूकोज़़ कोशिकाओं में प्रवेश करने के बजाय आपके रक्त प्रवाह में रहता है। समय के साथ, आपको टाइप 2 मधुमेह हो सकता है।

इंसुलिन प्रतिरोध या पूर्व मधुमेह होने की अधिक संभावना किसे है?

जिन लोगों में अनुवांशिक या रहन सहन वाले खतरे के कारण हैं, उन लोगों में इंसुलिन प्रतिरोध या पूर्व मधुमेह होने की संभावना अधिक होती है। खतरे वाले कारणों में शामिल हैं:

जिन लोगों में चयापचय (metabolic) सिंड्रोम होता है, उनमें उच्च रक्तचाप, असामान्य कोलेस्ट्रॉल का स्तर और बड़े कमर के आकार के संयोजन से पूर्व मधुमेह होने की संभावना अधिक होती है।

इन खतरे वाले कारणों के साथ-साथ, अन्य चीजें जो इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान देती हैं उनमें शामिल हैं:

  • कुछ दवाइयां जैसे ग्लूकोकॉर्टिक्ड (glucocorticoids), कुछ मनोरोग प्रतिरोधी (antipsychotics), और एड्स (HIV) की दवाइयां
  • हार्मोनल विकार, जैसे कि कुशिंग सिंड्रोम और एक्रोमिगेली
  • नींद की समस्याएं, विशेष रूप से सोते समय साँस लेने की समस्या

हालांकि आप अपने पारिवारिक इतिहास, आयु या जाती जैसे खतरे वाले कारकों को नहीं बदल सकते, पर आप खाने-पीने, शारीरिक गतिविधि और वजन और रहन सहन में ख़तरे को बढ़ाने वाले कारकों को बदल सकते हैं। ये रहन-सहन के बदलाव आपके इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह होने के ख़तरे को कम कर सकते हैं।

इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह होने के क्या कारण है?

शोधकर्ता इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह होने का कारण क्या है यह पूरी तरह से समझ नहीं पाएं हैं, लेकिन उनका मानना है कि अधिक वज़न और शारीरिक गतिविधि की कमी इसका मुख्य कारण है।

अधिक वज़न

विशेषज्ञों का मानना है कि मोटापा, विशेष रूप से पेट पर और अंगों के चारों ओर बहुत अधिक चर्बी, जिसे आंत की चर्बी कहा जाता है, इंसुलिन प्रतिरोध का मुख्य कारण है। पुरुषों के लिए 40 इंच या उससे अधिक और महिलाओं के लिए 35 इंच या उससे अधिक का कमर माप इंसुलिन प्रतिरोध से जुड़ा हुआ है। यह सच है भले ही आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) सामान्य श्रेणी में हो।

शोधकर्ताओं को लगता था कि चर्बी ऊतक केवल ऊर्जा को इकट्ठा करने के लिए होते थे। हालांकि, अध्ययनों से पता चला है कि पेट की चर्बी हार्मोन और अन्य पदार्थ बनाती है, जो शरीर में पुरानी, या लंबे समय तक चलने वाली, सूजन को बढ़ाती है। सूजन से इंसुलिन प्रतिरोध, टाइप 2 मधुमेह, और हृदय तथा रक्तवाहिकाओं संबंधी बीमारी हो सकती है।

अधिक वजन इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बन सकता है, जो बदले में बढ़ रहे जिगर रोग को बढ़ाता है।

पर्याप्त शारीरिक गतिविधि न करना

पर्याप्त शारीरिक गतिविधि न मिलना इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह से जुड़ा हुआ है। नियमित शारीरिक गतिविधि आपके शरीर में बदलाव का कारण बनती है जो रक्त में ग्लूकोज़़ के स्तर का संतुलन रखती है।

इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह के क्या लक्षण हैं?

इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह के आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते। पूर्व मधुमेह वाले कुछ लोगों की बगल या गर्दन के पीछे और किनारों वाली त्वचा काली हो सकती है, इस परिस्थिति को अकन्थोसिस निगरिकन्स कहते हैं। इन जगहों पर बहुत सारे छोटे मुंहासे हो जाते हैं।

हालांकि रक्त में ग्लूकोज़़ का स्तर ज्यादातर लोगों के लिए लक्षण पैदा करने के लिए पर्याप्त नहीं होता, कुछ शोध अध्ययनों से पता चला है कि पूर्व मधुमेह वाले कुछ लोगों में पहले से ही उनकी आंखों में बदलाव हो सकता है जो रेटिनोपैथी का कारण बन सकता है। मधुमेह वाले लोगों में अक्सर यह समस्या होती है।

डॉक्टर इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह का निदान कैसे करते हैं?

किसी को मधुमेह है या नहीं, यह पता लगाने के लिए डॉक्टर रक्त की जांच करते हैं, लेकिन वह आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध के लिए जांच नहीं करते। इंसुलिन प्रतिरोध के लिए सबसे सही जांच करना मुश्किल है और ज्यादातर शोध के लिए उपयोग की जाती है।

डॉक्टर पूर्व मधुमेह का निदान करने के लिए अक्सर फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज़़ (एफपीजी) जांच या ए1सी जांच करते हैं। डॉक्टर अकसर ओरल ग्लूकोज़़ टॉलरेंस जांच (ओजीटीटी) कम करते हैं, क्योंकि यह अधिक महँगी है और इसे करना आसान नहीं है।

यह रक्त की एक जाँच है जिससे आपको अपने रक्त में ग्लूकोज़़ के पिछले 3 महीनों के सामान्य स्तरों का पता चलता है। फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज़़ जांच (एफपीजी) और ओरल ग्लूकोज़़ टॉलरेंस जांच आपके रक्त में ग्लूकोज़़ के स्तर को दिखाता है। ए1सी जांच दूसरी जांच की तुलना में अधिक संवेदनशील नहीं है। कुछ लोगों में, यह पूर्व मधुमेह की जांच नहीं कर पाती लेकिन ओरल ग्लूकोज़़ टॉलरेंस जांच से इसका पता लग जाता है। इस जांच से यह पता लग सकता है कि भोजन के बाद आपका शरीर ग्लूकोज़़ को कैसे संभालता है - अक्सर खाली पेट रहने से रक्त में ग्लूकोज़़ का स्तर असामान्य हो जाता है। अक्सर डॉक्टर गर्भावधि मधुमेह (एक प्रकार का मधुमेह जो गर्भावस्था के दौरान होता है) की जांच के लिए इसी का उपयोग करते हैं।

जिन लोगों को पूर्व मधुमेह होता है, उन में आने वाले 5 से 10 सालों में मधुमेह बढ़ने की 50% संभावनाएं होती हैं। आप इसे संभालने और टाइप 2 मधुमेह (type 2 diabetes) को रोकने के लिए कदम उठा सकते हैं।

निम्नलिखित जांच परिणाम पूर्व मधुमेह दिखाते हैं -

  • ए1सी - 5.7 से 6.4 प्रतिशत
  • खाली पेट प्लाज्मा ग्लूकोज़़ जांच - 100 से 125 मिलीग्राम / डीएल (मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर)
  • ओरल ग्लूकोज़़ टॉलरेंस जांच -140 से 199 मिलीग्राम / डीएल

यदि आपका वजन अधिक है या आप मोटे हैं और आपको मधुमेह के एक या एक से अधिक कारण हैं, या यदि आपके माता-पिता, भाई-बहनों या बच्चों में टाइप 2 मधुमेह (type 2 diabetes) है, तो आप को पूर्व मधुमेह के लिए जांच करवानी चाहिए। यहां तक कि यदि आपको ख़तरे वाले कारण न भी हों तब भी 45 साल की उम्र के बाद मधुमेह की जांच करवानी चाहिए।

यदि परिणाम सामान्य हैं लेकिन आपको मधुमेह वाले अन्य कारण हैं, तो आपको कम से कम हर 3 साल में दोबारा जांच करवानी चाहिए।

आप इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह को कैसे रोक सकते हैं?

अगर आपको अपने शरीर को इंसुलिन के लिए बेहतर प्रतिक्रिया देने में मदद करने की जरुरत है, तो शारीरिक गतिविधि और वजन कम करना चाहिए। इसलिए स्वस्थ भोजन खाएं और वजन कम करने के लिए ज्यादा गतिविधि करें, क्योंकि ऐसा करने से इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह वाले लोगों में टाइप 2 मधुमेह की रोकथाम की जा सकती है।

एक शोध अध्ययन से पता चला है कि मधुमेह के उच्च ख़तरे वाले लोगों में, उनके शुरुआती वजन में 5 से 7 प्रतिशत की कमी होने से मधुमेह की संभावना कम हो गई है। 91 किलो वजन वाले लोगों का 5 से 6 किलो वजन कम हुआ है। अध्ययन से लोगों ने अपना भोजन बदलकर और ज्यादा शारीरिक रूप से सक्रिय होने से वजन कम किया।

कुछ शोध यह भी दिखाती हैं कि मधुमेह के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवा मेटफॉर्मिन (metformin) मधुमेह को रोक सकती है। मेटफॉर्मिन ने महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान होने वाले पुराने मधुमेह, युवा वयस्कों और मोटापे वाले लोगों पर सबसे अच्छा काम किया। अगर आपके लिए मेटफॉर्मिन सही हो सकता है तो अपने डॉक्टर से पूछें।

योजना बनाकर, अपनी प्रगति पर नजर रखकर और अपने डॉक्टर या स्वास्थ्य विशेषज्ञ, परिवार और दोस्तों की मदद से आप रहन सहन में बदलाव कर सकते हैं, जो इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह की रोकथाम कर सकता है।

समान विषय

संबंधित विषय


साइन अप